द्रव्यवती नदी और जयपुर रिंग रोड की डेडलाइन 15 अगस्त तय

द्रव्यवती रिवर फ्रंट परियोजना और रिंग रोड सहित विभिन्न विकास कार्यों के पूरा होने का इंतजार कर रहे हैं आमजन: मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे

news of rajasthan

आमजन द्रव्यवती रिवर फ्रंट परियोजना और रिंग रोड सहित विभिन्न विकास कार्यों के पूरा होने का इंतजार कर रहे हैं। इनमें अब कोई देरी नहीं होनी चाहिए। जयपुर में द्रव्यवती नदी, रिंग रोड सहित स्मार्ट सिटी परियोजनाओं, चारदीवारी के सौन्दर्यकरण, रास्तों में विशेष प्रकाश व्यवस्था एवं अन्य कार्यों के लिए तय 15 अगस्त की डेडलाइन तक इन परियोजनाओं से जुडे़ सभी कार्य हर हाल में पूरे कर लिए जाने चाहिए। यह कहना है राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे का। मुख्यमंत्री राजे बीते दिन मुख्यमंत्री निवास पर प्रदेश के चार स्मार्ट सिटीज सहित कई शहरों में चल रहे नगरीय विकास के विभिन्न कार्यों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रही थीं। उन्होंने कार्यकारी एजेंसियों को काम करने वाले मजदूरों की संख्या बढ़ाने का सुझाव दिया। साथ ही अधिकारियों को प्रदेश में चल रही विभिन्न विकास योजनाओं को तयशुदा समय पर पूरा करने के निर्देश दिए हैं।

रिंग रोड की भूमि अवाप्ति में तेजी लाने के निर्देश

जयपुर रिंग रोड पर बात करते हुए मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने साफ तौर पर कहा कि द्रव्यवती नदी के साथ-साथ अधिकाधिक हरियाली क्षेत्र विकसित होना चाहिए, ताकि शहरवासियों के लिए शुद्ध हवा उपलब्ध हो सके।

news of rajasthan

नगरीय विकास कार्यों का समीक्षा बैठक लेते हुए मुख्यमंत्री राजे।

उन्होंने जयपुर रिंग रोड के अगले चरण के लिए भूमि अवाप्ति की प्रक्रिया में तेजी लाने के निर्देश दिए। इसके अलावा, छोटी चौपड़ स्थित कुण्ड और भूमिगत आर्ट गैलेरी, चारदीवारी के विभिन्न प्रवेश द्वारों तथा रास्तों के सौन्दर्यकरण, स्मार्ट लाइटिंग, किशनबाग में हरियाली और सौन्दर्यकरण, तालकटोरा लेक डवलपमेंट, मल्टी लेवल पार्किंग और बावड़ियों के जीर्णोद्धार कार्यों की समीक्षा भी की। उन्होंने सभी घरों में रूफटॉप सौर ऊर्जा पैनल लगाने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करने के लिए विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिए।

स्मार्ट सिटी रैंकिंग पर खुशी जताई

सचिव स्वायत्त शासन नवीन महाजन और जयपुर विकास आयुक्त वैभव गालरिया ने बैठक में विभिन्न परियोजनाओं की प्रगति पर प्रस्तुतीकरण दिए। उन्होंने बताया राजस्थान के चारों स्मार्ट सिटी शहर कि जयपुर, उदयपुर, अजमेर और कोटा देशभर के स्मार्ट सिटीज में प्रोजेक्ट्स की क्रियान्विति की रैंकिंग में पहले 15 शहरों में शामिल हैं। मुख्यमंत्री राजे ने इस पर खुशी जाहिर करते हुए विकास कार्यों में और तेजी लाने को कहा।
मिटिंग में स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत उदयपुर में स्मार्ट क्लास रूम, सेंट्रल कमाण्ड सेंटर बिल्डिंग, सड़क और सीवरेज परियोजनाओं, कोटा में दशहरा मैदान के विकास, ठोस कचरा प्रबंधन परियोजना और अजमेर में एलीवेटेड रोड, आनासागर झील की विकास परियोजना और अजमेर शहर की पेजयल लाइनों के पुनरूद्धार योजना के साथ-साथ सभी स्थानीय निकायों में प्रस्तावित अम्बेडकर भवनों के निर्माण, आधुनिक शौचालयों और श्मशान एवं कब्रिस्तान के विकास कार्यों सहित अन्य विकास परियोजनों की प्रगति पर भी चर्चा हुई।

यह रहे उपस्थित

इस अवसर पर अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त मुकेश शर्मा, अतिरिक्त मुख्य सचिव नगरीय विकास पीके गोयल, प्रमुख शासन सचिव पर्यटन, कला एवं संस्कृति कुलदीप रांका, निदेशक स्थानीय निकाय पवन अरोड़ा, जयपुर नगर निगम आयुक्त रवि जैन, मुख्य कार्यकारी अधिकारी जयपुर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट सुरेश ओला, राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के प्रतिनिधियों सहित विभिन्न विभागों के अन्य अधिकारी तथा कार्यकारी एजेंसी के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Read more: बीजेपी का मास्टर स्ट्रोक-मदनलाल सैनी को बनाया राजस्थान का प्रदेशाध्यक्ष

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.