amarnath-yatra-victim

अमरनाथ में बाबा भोले के दर्शन कर श्रीनगर से पहलगाम की ओर आ रहे श्रद्धालुओं की बस पर तीन आतंकियों ने ताबड़तोड़ गोलीबारी की । इस घटना में सात अमरनाथ यात्रियों की मौत हो गई और 15 से अधिक यात्री घायल हो गए है। बस ड्राइवर सलीम की सूझबूझ से बस में सवार अन्य श्रद्धालुओं की जान बच गई। इस आतंकी हमले में मारे गए लोगों में 5 महिलाएं शामिल है। मरने वाले सभी यात्री गुजरात के वलसाड़ के रहने वाले थे। आपकों बतादें कि यात्रियों से भरी यह बस बालटाल से मीर बाजार की तरफ जा रही थी तभी रात करीब 8:20 बजे आतंकियों ने बस पर हमला किया। बस पर हमला करने के लिए तीन आतंकी कड़ी सुरक्षा के बीच बाईक से आए थे और फायरिंग कर बाईक से फरार हो गए थे। इस हमले की जिम्मेदारी लश्कर ए तैयबा ने ली है।  घटना के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि अमरनाथ यात्रा पर हमले से जान गवांने वालों का दर्द शब्दों से परे है। उन्होने जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल और मुख्यमंत्री से बात कर हमले में आहत होने वालों को हर संभव मदद देने का भरोसा जताया है।

army-man

मोदी ने कहा, हर संभव करेंगे मदद

यात्रियों की बस पर आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि शांतिपूर्ण अमरनाथ यात्रा पर जम्मू-कश्मीर में हमले में आहत होने वालों का शब्दों के परे दर्द है। हर किसी को इस हमले की कठोर निंदा की जानी चाहिए। भारत इस तरह के भयावह हमलों और नफरत की बुराई में कभी नहीं फंसेगा। ट्विटर पर पीएम ने लिखा कि जम्मू और कश्मीर राज्यपाल और के मुख्यमंत्री से बात की और आवश्यक सभी संभव सहायता का आश्वासन दिया।

आतंकियों को जल्द से जल्द ढूंढ़कर मार गिराया जाए: राजनाथ सिंह

अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी हमले को लेकर गृहमंत्री राजनाथ सिंह के घर पर चल रही उच्च स्तरीय बैठक संपन्न हो गई है। इस बैठक में एनएसए अजीत डोभाल, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, आईबी चीफ, रॉ चीफ सहित गृह मंत्रालय के दूसरे बड़े अधिकारी शामिल हुए। बैठक में यह महत्वपूर्ण निर्णय हुआ कि हमला करने वाले आतंकियों को ढूंढ कर मार गिराया जाए। इसके अलावा किसी भी अनरजिस्टर्ड गाड़ी और तीर्थ यात्रियों को अमरनाथ यात्रा करने से पहले, यात्रा करने के बाद नजर रखी जाए तथा खरीददारी और साइट सीइंग पर भी नज़र रखी जाएं।

अमरनाथ यात्रों को बनाएं और सुरक्षित

बैठक में गृह मंत्रालय ने सीआरपीए की हर रोज जाने वाली अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ करने तथा निगरानी ड्रोन से करवाने के निर्देश दिए। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने गृहराज्य मंत्री हंसराज अहीर को भी जम्मू-कश्मीर जाने के लिए कहा है। जहां वे मुख्यमंत्री मुफ्ती, राज्यपाल औऱ सुरक्षाबलों के साथ बैठक लेंगे। इसके बाद गृह मंत्रालय ने रियल टाइम एक्शन के लिए इंटेलीजेंस इनपुट को भी पुख्ता करने के निर्देश दिए है।

LEAVE A REPLY