news of rajasthan
file image
news of rajasthan
file image

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे का प्रदेश के किसानों का 50 हजार रूपए तक का फसली ऋणमाफी करने का फैसला हर मायने पर फायदेमंद होता दिख रहा है। जारी रिपोर्ट के अनुसार, अब तक प्रदेशभर के 33 हजार 134 किसानों को 94.34 करोड़ रूपए का फसली ऋणमाफी के प्रमाण पत्र वितरित किए जा चुके हैं। यही नहीं, किसानों को खरीफ फसली चक्र के लिये अब तक 2 हजार 371 करोड़ रुपए का खरीफ ऋण भी दिया जा चुका है। कर्जमाफी शिविर के दौरान ही किसानों के नए ऋण भी स्वीकृत हो रहे हैं। इससे सरकार किसान को दोहरी मदद दे रही है।

ऋणमाफी योजना देश में अनूठी: किलक

इस संबंध में सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक ने बताया कि मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे द्वारा किसान हित में लागू की गई ऋणमाफी योजना देश में अपने आप में अनूठी है। इस योजना में किसान का न केवल 50 हजार रुपये तक का फसली कर्ज ही माफ नहीं किया है बल्कि उसके भविष्य को सुरक्षित करने के लिये खरीफ की फसल के लिए शिविर में ही ऋण के आवेदन लिये जा रहे है।

योजना के तहत 25676 लघु एवं सीमान्त किसानों के ऋणमाफी राशि में 70.97 करोड़ रुपए का मूलधन, 2.86 करोड़ रुपए ब्याज एवं 42.63 लाख रुपए शास्ति सहित कुल 74.26 करोड़ रुपए का कर्ज माफ किया गया है। अन्य 7458 किसानों का 20.09 करोड़ रुपए का ऋण माफ हुआ है।

मूलऋण माफी तक स्वीकृत करा सकते हैं नया ऋण

किलक ने बताया कि किसान आवेदन कर मूल ऋण माफी तक का अतिरिक्त नवीन ऋण स्वीकृत करा सकता है। मूल ऋण माफी के बाद शेष बकाया मूल ऋण जमा कराये जाने पर किसान का उतना ही ऋण पुनः स्वीकृत किया जा रहा है।

नए ऋण धारकों को 10 लाख का बीमा कवर

शिविरों में किसानों को उनकी पात्रता के अनुसार ऋण स्वीकृत किया जा रहा है और 3 हजार 652 किसानों द्वारा नये ऋण के लिए आवेदन करने पर 16.48 करोड़ रुपये से अधिक का फसली ऋण भी स्वीकृत हुआ है। नए ऋण लेने वाले किसानों को राज सहकार व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना के तहत 10 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा कवर का लाभ दिया जा रहा है।

read more: बुजुर्ग गंगाराम के लिए वरदान बनी वसुन्धरा सरकार की ऋणमाफी योजना

LEAVE A REPLY