news of rajasthan
Rajasthan: CM Vasundhara Raje congratulated the people on Eid-al-Fitr.

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ईद-उल-फितर के मौके पर प्रदेशवासियों को दिली मुबारकबाद दी है। मुख्यमंत्री राजे ने शुभकामनाएं देते हुए कहा कि ईद का त्यौहार इंसानियत और आपसी भाईचारे का संदेश देता है। रोजेदारों के लिए ईद-उल-फितर खुशी का पैगाम लेकर आता है। उन्होंने कहा कि ईद हमें गरीबों, बेसहारों और जरूरतमंद लोगों की मदद करने एवं नेकी की राह पर चलने की सीख देती है। राजे ने मुस्लिम भाई-बहनों से अपील की है कि ईद के इस मुबारक मौके पर वे प्रदेश में अमन-चैन, खुशहाली और समृद्धि के लिए दुआ करें। गौरतलब है कि शुक्रवार देर रात चांद दिखाई देने के बाद प्रदेशभर में शनिवार को बड़े धूम-धाम से ईद मनायी जा रही है।

news of rajasthan
File-Image: राजस्थान की मुख्यमंत्री राजे ने ईद-उल-फितर पर प्रदेशवासियों को दिली मुबारकबाद दी.

राज्यपाल कल्याण सिंह ने दी ईद के मौके पर बधाइयां और शुभकामनाएं

राज्यपाल कल्याण सिंह ने ईद-उल-फितर के मुबारक मौके पर बधाइयां और शुभकामनाएं दी हैं। राज्यपाल सिंह ने कहा है कि ”हमारी विविधता हमारी ताकत है। हमें एकजुट होकर देश में साम्प्रदायिक सद्भाव एवं एकता की भावना सुनिश्चित करनी चाहिए। रमजान का नेक महीना दान, रोजा एवं प्रार्थनाओं के साथ मनाया जाता है। इस अवसर पर सभी को मिलजुल कर समाज की सेवा करने का संकल्प लेना चाहिए।” ईद-उल-फितर के मौके पर विधानसभा उपाध्यक्ष राव राजेन्द्र सिंह, सरकारी मुख्य सचेतक कालूलाल गुर्जर एवं सरकारी उप मुख्य सचेतक मदन राठौड़ ने भी ईद एवं प्रताप जयंती पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी।

Read More: हिन्दू विस्थापितों को नागरिकता देने की प्रक्रिया तेज एवं सरल होगी: सीएम राजे

ईद-उल-फितर एवं महाराणा प्रताप जयंती पर विधानसभा अध्यक्ष ने दी बधाई

राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने ईद-उल-फितर एवं महाराणा प्रताप जयंती पर प्रदेशवासियों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी है। अपने मुबारक पैगाम में मेघवाल ने कहा कि रमजान के पाक महीने मे रोज़ा रखने के बाद ईद का मुबारक दिन हम सब के लिए खुशिया लेकर आता है। विधानसभाध्यक्ष मेघवाल ने कहा कि ईद का त्यौहार शांति, सौहार्द, सद्भाव और अमनोचैन का पैगाम देता है। मेघवाल ने कहा कि सूबे की तरक्की में हर कौम की भागीदारी होनी चाहिए। मेघवाल ने कहा कि हमें महाराणा प्रताप के जीवन आदर्शों को आत्मसात् करना होगा। महाराणा प्रताप ने अपनी मातृभूमि के लिए अपना जीवन न्यौछावर कर दिया था।

 

LEAVE A REPLY