जयपुर। लोकसभा चुनाव के नजदीक आते ही भाजपा व कांग्रेस समेत अन्य दल वोटरों को साधने के लिए राजनीतिक समीकरण बनाने में जुटे हैं। राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत मिशन-25 को पूरा करने के लिए जनता के हित में कई लोक लुभावनी योजनाएं व घोषणाएं कर रहे हैं। इसी दिशा में चुनाव से पहले गहलोत सरकार बेरोजगारी भत्ते के ऐलान के बाद सरकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए अब एक बार फिर से युवाओं को साध रही है। सीएम गहलोत ने सरकारी योजनाओं के प्रचार का जिम्मा राज्य के 40 हजार युवाओं को देने का निर्णय लिया है, जिसके लिए प्रत्येक युवा को 4 हजार रु प्रतिमाह का भुगतान किया जाएगा।

सरकार द्वारा हाल ही शुरू की गई युवा संबल योजना में पंजीकृत युवाओं का ही इसके लिए चयन किया जाएगा। युवा संबल योजना के तहत पंजीकृत युवाओं को 3 हजार रुपए मासिक बेरोजगारी भत्ता देने की घोषणा की गई थी। लेकिन अब इनमें से जिन युवाओं का चयन सरकारी योजनाओं के गुणगान के लिए किया जाएगा उन्हें 3 के बजाए 4 हजार रुपए दिए जाएंगे। इनकी नियुक्ति की अवधि 2 वर्ष तक की होगी। प्रदेश के करीब 40 हजार युवाओं की नियुक्ति ‘ग्राम रक्षक’ के रूप में होगी जो राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं की जानकारी स्वयंसेवक के रूप में लोगों तक पहुंचाएंगे।

उल्लेखनीय है कि गहलोत सरकार लोकसभा चुनाव से पहले अपने निर्णयों व योजनाओं को अधिकाधिक लोगों के बीच पहुंचाने का काम तेजी से कर रही है, ताकि वे ज्यादा से ज्यादा सीट हासिल कर सके।

LEAVE A REPLY