पुरानी  कहावत है। चोरों के लिए ताले नहीं होते। ताले तो साहूकारों के लिए होते हैं। इसलिए चोरों को चोरी करने से रोकने के लिए संसार में चौकीदार व्यवस्था चलाई गयी। जब चौकीदार, चोरों की चौकीदारी करने लगे। तो चौकीदार, चोरों की नज़र में खटकने लगे। तो चोर ख़ुद चौकीदार को ही चोर चोर कहकर चिल्लाने लगे। और कहने लगे “चौकीदार चोर है।” हाँ हम भी यही कहते हैं कि “चौकीदार चोर है।” लेकिन देश के चोरों के लिए। लुटेरों के लिए। भ्रष्टाचारियों के लिए। घोटाला करने वालों के लिए। चौकीदार ने उनकी चोरी करने की प्रक्रिया पर रोक लगा दी। ऐसे में जिन लोगों का धंधा चौपट हो गया। वो तो हायतौबा-हायतौबा करेंगे ही। क्योंकि चौकीदार ने अब उनकी ऊपर से खाने व्यवस्था बंद कर दी है।

“चौकीदार चोर नहीं है” चौकीदार चौकन्ना है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को “चौकीदार चोर है” कहने वाले वही लोग हैं। जो केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने से पहले। देश को जमकर लूट रहे थे। ख़ूब भ्रष्टाचार कर रहे थे। घोटाले कर रहे थे। ये तो आपको पता ही होगा। कांग्रेस ने अपने 10 साल के कार्यकाल में कितने घोटाले किये थे। और कितने बड़े-बड़े घोटाले किये थे। दस सालों के कार्यकाल में कांग्रेस ने सैंकड़ों घोटाले किये थे। जिनके परिणामस्वरूप कांग्रेस की छवि देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर में धूमिल हो गयी थी। उसके बाद देश ने कांग्रेस को बुरी तरह से नकारा और देश की सत्ता कांग्रेस के हाथों से छीन कर भाजपा को सौंपी।

अब नरेंद्र मोदी की भाजपा सरकार को पांच साल पूरे होने जा रहे हैं। लेकिन देश में एक भी मीडिया एजेंसी, न्यूज़ चैनल या समाचार पत्र ने कभी भी ये नहीं कहा कि भाजपा सरकार ने या नरेंद्र मोदी सरकार ने कोई घोटाला किया हो। सिवाय कांग्रेस और भाजपा से नफरत करने वालों के। भाजपा सरकार ने, मोदी सरकार ने और नरेंद्र मोदी की पूरी टीम ने पांच साल ऐसे-ऐसे काम किये हैं। जो कांग्रेस ने दस साल तो क्या, अपनी सत्ता के पचास सालों में भी नहीं किये होंगे। भाजपा के नेताओं ने ये काम बिना चोरी, घोटाले और भ्रष्टाचार किये। इसका एक उदाहरण केंद्रीय यातायात मंत्री नितिन गडकरी हैं। जिन्होंने पांच साल में 40 हज़ार किलोमीटर सड़क बनवायी और 45 हज़ार किलोमीटर सड़क का निर्माण कार्य वर्तमान में प्रगति पर है। बाकी उन्होंने और क्या क्या काम किये नीचे दिए गए वीडियो में खोद ही देख लीजिये।

LEAVE A REPLY