ये ज़ीका नहीं कांग्रेस के झूठ का वायरस है, चपेट में आ गए तो राजस्थान अगले पांच सालों के लिए बीमार हो जाएगा

news of rajasthan

ये तो हम सब जानते हैं। जैसे ही बरसात का मौसम ख़त्म होता है, तो कई सारी मौसमी और मच्छरों से पैदा होने वाली बीमारियां फैलने का खतरा बढ़ जाता है। राजस्थान में भी इन दिनों ज़ीका वायरस का काफी प्रकोप फैल रहा। जयपुर 32 लोगों के ज़ीका वायरस से प्रभावित होने की खबर आने से राजधानी सहित पुरे प्रदेश में खलबली मच गयी। प्रदेश की सरकार और पूरा चिकित्सा विभाग एक साथ मिलकर ज़ीका वायरस के अलावा डेंगू, चिकन गुनिया स्वाइन फ्लू जैसी बीमारियों के निपटने की कोशिश कर रहे हैं। मगर फ़िलहाल तो राजस्थान के लिए इन मौसमी बिमारियों से ज्यादा खतरनाक एक वायरस और भी है जो जानलेवा साबित हो सकता है। साथ ही ये वायरस पूरे राजस्थान को एक लम्बी बीमारी की चपेट में भी ले सकता हैं। ये वायरस कोई और नहीं कांग्रेस ही है।

राजस्थान ही नहीं पूरे देश को, वर्षों से झूठ बोलकर और बहला-फुसला कर बीमार और अपना गुलाम बनाकर रखने वाली कांग्रेस को जनता ने जैसे-तैसे करके राज्य और केंद्र की सत्ता से बेदखल किया था। 50 सालों से पदेश को बीमार बनाकर रखने वाली कांग्रेस का सफाया किया था। तो ऐसा लगा की राजस्थान में अब कोई बीमारी नहीं आएगी। पिछले पांच सालों में प्रदेश ने तरक्की की कुछ राह पकड़ी है। राजस्थान के ऐसे-ऐसे क्षेत्रों में विकास हुआ। जहाँ विकास के नाम पर कभी एक लकीर भी नहीं खीचीं गई। भारतीय जनता पार्टी की सरकारों ने हमेशा जनता और प्रदेश की भलाई में तत्परता से काम किये। आज राजस्थान के हर गावं, हर ढाणी, हर गली, हर मोहल्ले और हर वार्ड में कुछ ना कुछ विकास कार्य जरूर हुआ है। मगर फिर भी कांग्रेस के नेता सत्ता हथियाने के चक्कर में खुले आम लोगों के बीच में जा-जाकर सफेद झूठ बोल रहे हैं।

news of rajasthan

चूँकि अब राजस्थान विधानसभा चुनावों का दिन-तारीख सब तय हो चुके हैं, इसलिए कांग्रेस के सभी नेता चाहे वह अशोक गहलोत हो, चाहे सी. पी जोशी हो, चाहे अविनाश पांडेय हो, चाहे रामेश्वर लाल डूडी हो, और या चाहे कांग्रेस के नाबालिग नेता सचिन पायलट और राहुल गांधी हो। सब के सब लोग दबाकर झूठ बोलने में लगे हैं। जब कांग्रेस का कार्यकाल था, तो कांग्रेस के नेताओं में होड़ लगती थी, कौन कितना बड़ा घोटाला करता है। अब इनमे होड़ लगी है, की भाजपा के खिलाफ कौन कितना बड़ा झूठ बोलता है। इसलिए तो मुख्यमंत्र वसुंधरा राजे द्वारा कराया गया कोई भी विकास कार्य अब इन्हें नज़र नहीं आ रहा है। अब तो इनको सिर्फ और सिर्फ राजस्थान की जनता दिखाई दे रही है। और अब इनका एक ही लक्ष्य दिखाई दे रहा है कि कैसे राजस्थान की जनता को अपना शिकार बनाया जाये और राजस्थान को एक बार फिर कांग्रेस की चपेट में लिया जाये।

झूठ बोलने के लिए सिर्फ मुँह खोलने की जरुरत होती है। कांग्रेस के नेता जगह-जगह रैलियां कर रहे हैं, रैलियों में बोल रहे हैं, और सिर्फ झूठ बोल रहे हैं। कहाँ विकास नहीं हुआ राजस्थान में। सब काम हुए हैं, और कांग्रेस के समय से बेहतर हुए हैं। कांग्रेस की सरकारों ने जितने काम पिछले पचास सालों में नहीं किये वो काम भाजपा और वसुंधरा सरकार ने पांच सालों में कर दिखाए हैं। 2013 में जब भाजपा की सरकार आयी तो राजस्थान के विद्युत विभाग पर 80 हज़ार करोड़ का क़र्ज़ था। लेकिन वसुंधरा सरकार ने ना केवल ये क़र्ज़ उतरा बल्कि राजस्थान के सभी लोगों को बिजली आपूर्ति देकर उन गावों तक भी बजली पहुंचाई जहाँ आज़ादी के बाद से अभी तक बिजली नहीं पहुंची थी। फिर हर घर में लट्टू लगाया। जब सब कुछ व्यवस्थित हो गया तो फिर राजस्थान के किसानों के लिए भी उन्होंने मुफ्त बिजली की घोषणा कर दी है। जिसकी मंजूरी भी केंद्र सरकार ने दे दी है। जबकि कांग्रेस की केंद्र सरकार तो खुद अपनी राज्य सरकारों को भी किसी प्रकार की कोई मंजूरी नहीं देती थी।

Read more: सारे कौवे तो कांग्रेस में शामिल हो गए अब कनागत कौन खाये?

राजस्थान की वसुंधरा सरकार ने अपने कार्यकाल में सबके लिए कुछ ना कुछ कार्य किये हैं। किसानों का क़र्ज़ माफ़ किया उनको और लोन देने का प्रावधान किया। किसानों की फसल नहीं बिकने पर उन्हें न्यूनतम समर्थन मूल्य देकर फसल खरीदने का प्रावधान किया। साथ ही प्रदेश के युवाओं को रोजगार के काबिल बनाने के लिए कौशल एवं आजीविका विकास योजना की शुरुआत की। राज्य की शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए ग्राम पंचायत स्तर के सभी विद्यलायें को क्रमोन्नत किया। शिक्षकों की भर्ती की। कांग्रेस के नेताओं का सबसे बड़ा झूठ है की हमने निःशुल्क दवाईयां बांटी जिसे भाजपा सरकार ने बंद कर दिया। मगर सच्चाई ये है की भाजपा सरकार ने तो इस योजना को और भी आगे बढ़ाया है। कांग्रेस सरकार ने निःशुल्क दवाइयों के लिए 300 करोड़ रूपये दिए थे। जबकि भाजपा सरकार ने निःशुल्क दवाइयों के लिए 500 करोड़ रूपये दिए ही साथ में 2100 करोड़ रूपये राजस्थान की जनता के मुफ्त इलाज के लिए दिए जिससे प्रदेश का स्वास्थ्य और बेहतर हुआ है।

कुल मिलकर बात ये है की राजस्थान में विकास तो सब जगह हुआ है। लेकिन कांग्रेस के नेता सिर्फ और सिर्फ सत्ता हथियाने के चक्कर में जनता से झूठ बोले जा रहे हैं। ताकि ये लोग फिर से सत्ता में आये और राजस्थान और राजस्थान की जनता को लूट खसोट कर प्रदेश को खोखला कर दे और लोगों को फिर से बीमार और गरीब बनाकर ये लोग जनता पर शासन कर सकें। लेकिन राजस्थान की जनता को इस कांग्रेस के झूठ के वायरस से बचा कर रहना होगा और साथ ही प्रदेश को भी बचाना होगा। क्योंकि ज़ीका, डेंगू, चिकन गुनिया और स्वाइन फ्लू के वायरस से तो वसुंधरा सरकार जनता को बचा लेगी। लेकिन अगर प्रदेश कांग्रेस की चपेट में आ गया तो फिर पूरे प्रदेश में महामारी फैलने से कोई नहीं रोक पायेगा। इसलिए राजस्थान की जनता जागो और राजस्थान को हर प्रकार के वायरस से मुक्त कराने के लिए सरकार का साथ दो।

Read more: राजनीति के मंच पर ओवर-एक्टिंग के डोज़ से जनता का मनोरंजन करने में जुटी ‘कांग्रेस’

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.