एक साल में 60 लाख मरीजों का इलाज कर एसएमएस बना देश में अव्वल, वसुंधरा की नीतियों से मिली सफलता

news of rajasthan

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे

राजधानी जयपुर में स्थित सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज से जुड़े अस्पतालों ने एक बार फिर देश में सफलता का परचम लहराया है। इस कॉलेज से संबंधित 10 सरकारी अस्पतालों में गत एक वर्ष में 60 लाख 66 हजार से ज्यादा मरीजों का इलाज हुआ है। इतना ही नहीं करीब 2 लाख 65 हजार से ज्यादा ऑपरेशन भी किये गए हैं। भारी संख्या में मरीजों का सफलतापूर्वक उपचार कर यह अस्पताल भारत में तो सबसे अव्वल बना ही, साथ ही सर्वाधिक रोगियों के आगमन वाला दुनिया का सर्वोत्तम सरकारी मेडिकल कॉलेज भी बन गया। एसएमएस, जेके लोन, जनाना, महिला, गणगौरी, मनोरोग व श्वास रोग संस्थान सहित सभी 10 सरकारी अस्पतालों में सबसे ज्यादा ऑपरेशन एसएमएस अस्पताल में ही हुए हैं। ऐसे में जयपुर का सवाई मानसिंह अस्पताल ऑपरेशन के मामले में दिल्ली के ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIMS) से भी आगे निकल चुका है।

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना ने रचा इतिहास

एक रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2010 तक यहां सालाना 8 से 9 लाख मरीज इलाज के लिए आते थे। गहलोत सरकार की निःशुल्क दवा वितरण योजना से यह संख्या बढ़कर 10 लाख हो गई। लेकिन प्रदेश में वसुंधरा राजे की सरकार ने जैसे ही भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत हर परिवार को स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध करवाया। एसएमएस मेडिकल कॉलेज से जुड़े अस्पतालों में मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती चली गई। हालांकि इस योजना के तहत रोगियों को निजी अस्पतालों में भी तीन लाख रुपये तक का निःशुल्क इलाज उपलब्ध कराया जाता है। लेकिन फिर भी ग्रामीण अंचल के रोगियों की पहली पसंद एसएमएस अस्पताल ही बना रहा।

वसुंधरा सरकार ने किया कायाकल्प

वर्ष 2013 में आई वसंधुरा सरकार ने प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार किया तथा विभिन्न योजनाओं के तहत सरकारी अस्पतालों के कायाकल्प का काम शुरू किया। राजे की योजनाओं में भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, आदर्श स्वास्थ्य केन्द्र, अलग ट्रॉमा सेंटर, एम्बुलेंस सेवा, गुर्दा व हृदय स्थानांतरण व डाइलिसिस की उपलब्धता सबसे ज्यादा सफल रही।

Write by Om Kumawat 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.