news of rajasthan

स्वाइन फ्लू के मरीजों का ब्लड टेस्ट कराने को कह रहे रघु शर्मा की चिकित्सकों ने उड़ाई खिल्ली, विभाग को पता नहीं कितने मरीज भर्ती हैं

‘नाच न जाने आंगन टेड़ा’ वाली कहावत को चरितार्थ करते हुए राजस्थान ​के ​चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने सोमवार को अपने अधकचरे ज्ञान से चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सकों को भी भाव विभोर कर दिया। इसके बाद कुछ ने सरेआम और अन्य ने दबे स्वर में रघु शर्मा की खिल्ली तो उड़ा ही ली। दरअसल मंत्री शर्मा ने चिकित्सा विभाग तो संभाल लिया लेकिन प्रदेश में 75 से ज्यादा लोगों को मौत के आगोश में ले चुके स्वाइन फ्लू को लेकर वह अब तक अपडेट नहीं हैं। मंत्रीजी को छोड़िए, खुद चिकित्सा अधिकारी तक को इस बार में कुछ नहीं पता कि उनके अस्पताल में कितनी स्वाइन फ्लू के मरीज भर्ती हैं। ऐसा ही कुछ देखने को मिला स्वाइन फ्लू की रोकथाम और सीएम के जोधपुर दौरे को लेकर पूरे प्रदेश के डिप्टी सीएमएचओ और संबंधित डॉक्टरों की वीडियो कांफ्रेंसिंग में, जहां चिकित्सा मंत्री सभी चिकित्सों को निर्देश दे रहे थे। स्वास्थ्य भवन में हुई इस वीडियो कांफ्रेंस में चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा सहित प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त निदेशकों, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों, मेडिकल कालेज के प्राचार्यों व अधीक्षकों ने भाग लिया था।

स्वाइन फ्लू में ब्लड टेस्ट की बात पर हंस पड़े डॉक्टर्स

रघु शर्मा ने डॉक्टरों से जोश में कहा कि आप स्वाइन फ्लू रोकथाम के लिए क्या कर रहे हो। पिछले दिनों देवीसिंह भाटी मिले थे। उन्होंने कहा कि नीम का काढ़ा बनाकर पिलाओ, ठीक हो जाता है। इससे इम्युनिटी मजबूत होती है। आप लोग काढ़े से रोकथाम पर जोर दो। इस पर कुछ डॉक्टर हंस पड़े। बाद में मंत्री ने कहा कि अपने-अपने जिलों में महामारी रोकने के लिए ब्लड सैंपल बढ़ाओ। यह सुन पास में बैठे कुछ अधिकारियों ने कहा, ‘साहब। स्वाइन फ्लू में गले से स्वाब लेकर टेस्ट किया जाता है। ब्लड सैंपल नहीं लेते।’ बाद में मीडिया के सामने उन्होंने अपने अधकचरे ज्ञान में सुधार किया।

किसी ने एक तो किसी ने 7 मरीज भर्ती बताए, एक ने कहा-मुझे पता नहीं है…

किस अस्पताल में कितने स्वाइन फ्लू के मरीज भर्ती हैं, यह जानने के लिए रघु शर्मा ने बीकानेर के डॉ.रमेश गुप्ता से कहा, ‘आपके यहां स्वाइन फ्लू के कितने मरीज भर्ती है।’ इस पर गुप्ता बोले-एक मरीज है। यह सुनते ही पास बैठे चिकित्सा शिक्षा सचिव हेमंत गेरा बोले कि बीकानेर में 7 स्वाइन फ्लू मरीज भर्ती है। बाड़मेर के एक नए डॉक्टर से जब भर्ती मरीजों के बारे में पूछा गया तो जवाब आया, ‘मुझे नहीं पता कितने भर्ती है। बालोतरा की जानकारी मैं नहीं रखता।’ इस पर चिकित्सा मंत्री गुस्सा हो उठे और निदेशक को कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए।

Read more: 26 जनवरी भी निकली, चिकित्सा मंत्री के निरीक्षण दौरे का अभी इंतजार

LEAVE A REPLY