सर्वे: नरेन्द्र मोदी को दोबारा पीएम के रूप में देखना चाहते हैं 63 प्रतिशत लोग

राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम, इन पांच राज्यों में अगले माह यानी दिसंबर में चुनाव होने है। इन पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के बाद सीधे लोकसभा चुनाव होने हैं। 2019 के आम चुनाव में मोदी को रोकने के लिए कांग्रेस समेत कई अन्य प्रमुख दल अपनी रणनीति और महागठबंधन बनाने में जुटे हुए हैं। लेकिन देश की जनता के आर्शीवाद से शायद कोई भी महागठबंधन उन्हें उखाड़ नहीं सकता। एक प्रतिष्ठित न्यूज पोर्टल के आॅनलाइन सर्वे में यह बात सामने आई है। इस सर्वे के अनुसार, देश और दुनिया में रहने वाले 63 प्रतिशत से ज्यादा भारतीय नरेन्द्र मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं। इस सर्वे में हिस्सा लेने वाले 50 प्रतिशत लोगों ने कहा है कि मोदी के दूसरे कार्यकाल से देश को बेहतर भविष्य मिलेगा।

news of rajasthan

Image: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी.

देश और विदेश के 54 लाख लोगों के विचारों पर आधारित है सर्वे

न्यूज पोर्टल ‘डेलीहंट’ और डेटा विश्लेषण करने वाली कंपनी ‘नील्सन इंडिया’ ने एक बयान में दावा किया है कि उनका सर्वेक्षण देश और विदेश के 54 लाख लोगों के विचारों पर आधारित है। सर्वेक्षण के मुताबिक, 63 प्रतिशत से ज्यादा लोगों ने नरेन्द्र मोदी में 2014 की तुलना में ज्यादा या उसी स्तर का भरोसा जाहिर किया है और पिछले चार सालों में उनके नेतृत्व क्षमता पर संतोष जताया है। सर्वेक्षण में यह भी कहा गया है कि 50 प्रतिशत प्रतिभागियों का मानना है कि मोदी के दूसरे कार्यकाल से उनको बेहतर भविष्य मिलेगा। पांच चुनावी राज्यों के मामले में सर्वेक्षण में दावा किया गया है कि मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ के लोगों का अभी मोदी में भरोसा बना हुआ है।

राष्ट्रीय संकट के समय देश का नेतृत्व करने में मोदी सबसे उपयुक्त

मिजोरम के रूझान के बारे में सर्वेक्षण में कुछ नहीं कहा गया है। तेलंगाना एकमात्र ऐसा राज्य है जहां रूझान थोड़े कमजोर नज़र आए हैं। सर्वेक्षण में दावा किया गया है कि लंबे समय से जड़ जमाए भ्रष्टाचार को खत्म करने के मुद्दे पर 60 प्रतिशत लोगों ने मोदी में अपना भरोसा जताया है। सर्वेक्षण के मुताबिक, 62 फीसदी लोग आश्वस्त हैं कि किसी राष्ट्रीय संकट के समय देश का नेतृत्व करने में नरेन्द्र मोदी सबसे उपयुक्त हैं। इसके बाद राहुल गांधी (17 प्रतिशत), अरविंद केजरीवाल (आठ प्रतिशत), अखिलेश यादव (तीन प्रतिशत) और मायावती (दो प्रतिशत) का नाम शामिल है।

Read More: राजस्थान के सभी जिलों की ग्राउंड रिपोर्ट तैयार करेंगे 23 नेता, अमित शाह ने दी जिम्मेदारी

सर्वे करने वाले न्यूज पोर्टल ‘डेली हंट’ और ‘नील्सन इंडिया’ ने बयान में स्पष्ट किया है कि सर्वेक्षण राजनीति से ज़रा भी प्रेरित नहीं है। यह सर्वे देश के लोगों की आवाज को बयां करने के लिए किया गया है।

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.