स्कूलों में निःशुल्क सीट्स पर प्रवेश के लिए आज शिक्षा राज्यमंत्री निकालेंगे ऑनलाईन लॉटरी

आरटीई के तहत यानि निःशुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत गैर-सरकारी विद्यालयों में निःशुल्क सीट्स पर प्रवेश के लिए वरीयता सूची निर्धारण के लिए शिक्षा राज्य मंत्री वासुदेव देवनानी मंगलवार को शिक्षा संकुल में ऑनलाईन लॉटरी निकालेंगे। राजस्थान प्रारंभिक शिक्षा परिषद् के अतिरिक्त आयुक्त सुरेशचन्द्र ने बताया कि शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी गैर-सरकारी विद्यालयों में शैक्षिक सत्र 2018-19 के लिए दोपहर 3 बजे शिक्षा संकुल स्थित राजस्थान प्रारंभिक शिक्षा परिषद् के पंचम ब्लॉक के चतुर्थ तल पर स्थित सभागार में ऑनलाईन लॉटरी निकालेंगे।

news of rajasthan

File-Image: स्कूलों में निःशुल्क सीट्स पर प्रवेश के लिए आज शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी निकालेंगे ऑनलाईन लॉटरी.

11 लाख 41 हजार 600 आवेदन प्राप्त हुए हैं, 25 फीसदी सीट्स के लिए निकलेगी लॉटरी

शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने मंगलवार को आरटीई से मिलने वाले प्रवेशों के लिए ऑनलाइन लॉटरी निकालेंगे। निःशुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत गैर सरकारी विद्यालयों में 25 फीसदी सीट्स पर सत्र 2018-19 में प्रवेश के लिए यह लॉटरी निकाली जाएगी। जानकारी के अनुसार, इस बार निःशुल्क सीट्स पर प्रवेश के लिए रिकॉर्डतोड़ 11 लाख 41 हजार 600 आवेदन प्राप्त हुए हैं। इससे पिछले साल 24 हजार 425 गैर सरकारी विद्यालयों में कुल 5 लाख 73 हजार 338 आवेदन ऑनलाईन प्राप्त हुए थे। इस वर्ष लगभग दोगुना आवेदन अधिक प्राप्त हुए हैं।

Read More: स्कौच अवॉर्ड: कौशल प्रशिक्षण में राजस्थान को लगातार तीसरे वर्ष सर्वश्रेष्ठ राज्य का पुरस्कार

लॉटरी द्वारा जारी वरीयता सूची को देख सकते हैं इस वेब पोर्टल पर

राजस्थान प्रारंभिक शिक्षा परिषद् द्वारा लॉटरी से जारी की जाने वाली वरीयता सूची को अभिभावक विद्यालयवार प्राइवेट स्कूल के वेब पोर्टल www.rte.raj.nic.in के होम पेज पर वरीयता सूची पर क्लिक करके देख सकते हैं। साथ ही अभिभावक अपने आवेदन के आईडी नम्बर व मोबाइल नम्बर से लॉगिन करके अपने बालक-बालिका का वरीयता क्रमांक सभी आवेदित विद्यालयों में एक साथ देख सकते हैं। यह सुविधा मोबाइल एप पर भी उपलब्ध है। जिनके नाम लॉटरी में निकलेंगे, उन्हें संबंधित विद्यालय में उपस्थित होकर आवेदन पत्र जमा कराने होंगे।

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.