राजस्थान: श्रेष्ठ अन्नपूर्णा भण्डार संचालकों को लॉटरी निकालकर किया पुरस्कृत

राजस्थान सरकार की फ्लैगशिप योजना ‘अन्नपूर्णा भण्डार’ के संचालकों को उनकी ब्रिकी के आधार पर सरकार द्वारा सम्मानित भी किया जा रहा है। इसके तहत संचालकों को उनके द्वारा बेहतर बिक्री करने पर शासन सचिव मुग्धा सिन्हा ने गुरूवार को सचिवालय स्थित अपने कक्ष में लॉटरी निकालकर राज्यभर में संचालित अन्नपूर्णा भण्डारों के विजेता रहे 33 अन्नपूर्णा भण्डार संचालकों के नामों की घोषणा की। शासन सचिव ने लॉटरी निकालने का शुभारंभ करते हुए 90 हजार से अधिक की बिक्री करने वाले 11 अन्नपूर्णा भण्डार संचालकों को प्रथम स्थान पर रखा।  प्रथम स्थान पर रहने वाले संचालकों को पुरस्कार स्वरूप 33 इंच की एलईडी दी जाएगी। इन विजेता संचालकों में रामलाल गुर्जर, रतन सिंह, हरी सिंह, हीरालाल, राजेश जैन, जगदीश जैन, केशव नारायण, दिनेश नागर, लूणाराम, सूरजमल, केसाराम के नाम शामिल हैं।

news of rajasthan

Image: शासन सचिव मुग्धा सिन्हा अपने कक्ष में लॉटरी निकालकर अन्नपूर्णा भण्डार संचालक विजेताओं की घोषणा करती हुई.

50 से 90 हजार तक की ब्रिकी करने वाले संचालकों को भी किया जाएगा सम्मानित

द्वितीय पुरस्कार के रूप में 50 से 90 हजार तक की बिक्री करने वाले 11 ‘अन्नपूर्णा भण्डार’ संचालकों को सम्मानित किया जाएगा। इन विजेताओं में राधेश्याम, चम्पालाल, लल्लूराम, योगेन्द्र कुमार, महेन्द्र सिंह, बत्तीराम, राजू सिंह, उदयराज, अन्नपूर्णा महिला कॉपरेटिव (सीकर), ज्ञान सिंह, हस्तीमल का नाम शामिल हैं। इन्हें द्वितीय पुरस्कार के रूप में 190 लीटर का रेफ्रिजरेटर दिया जाएगा। इसी प्रकार 50 हजार तक की बिक्री करने वाले ‘अन्नपूर्णा भण्डार’ संचालकों को तृतीय विजेता के रूप में साढे छः लीटर की वॉशिंग मशीन दी जाएगी। तृतीय पुरस्कार के विजेताओं में फरसाराम, अमर सिंह, कन्हैयालाल, कृष्ण कुमार, शंकरलाल, राजकुमार, चोखाराम, रामकुमार, इनायत अली, शुभान खान, कपूरराम का नाम शामिल हैं।

Read More: हमने प्रदेश में शिक्षा की तस्वीर बदली, जल्द ही बनेंगे नंबर वन: शिक्षा राज्यमंत्री देवनानी

इस दौरान ये भी थे उपस्थित

इस अवसर पर अतिरिक्त खाद्य आयुक्त मातादीन शर्मा, उपायुक्त एवं संयुक्त शासन सचिव अंजू राजपाल, अन्नूपर्णा भण्डार से हिमांशु, अमित एवं राजस्थान राज्य अधिकृत विक्रेता संघ के प्रदेशाध्यक्ष सरताज अहमद भी उपस्थित रहे।

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.