वसुन्धरा सरकार ने उठाया स्कूली बच्चों को संस्कारी व धर्मकांडी बनाने का बीड़ा

शिक्षा विभाग के वार्षिक कैलेंडर के अनुसार-अब से हर शनिवार विद्यालय में होंगे धार्मिक प्रवचन व संतों के उपदेश…

news of rajasthan

प्रदेश में सर्वहित योजनाओं के बची अब वसुन्धरा सरकार ने स्कूली बच्चों को संस्कारी व धर्मकांडी बनाने का बीड़ा भी अपने कंधों पर उठा लिया है। इसके लिए शिक्षा विभाग ने हाल में जारी किए अपने नए वार्षिक कैलेंडर (शिविरा पंचांग) में धार्मिक प्रवचनों और संतों के उपदेशों को भी शामिल किया है। यह इसलिए किया गया है ताकि सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों का ध्यान गलत दिशा में न भटके। इतना ही नहीं, धार्मिक उपदेशों के अलावा दादी-नानी की प्रेरणादायी कहानियां भी बच्चों को सुनाई जाएंगी ताकि बच्चों में शिक्षाप्रद जानकारी का पौध रोपा जा सके। इसके अलावा, अन्य गतिविधियों को भी वार्षिक कैलेंडर में जगह दी गई है जो प्रत्येक शनिवार को सभी विद्यालयों में अनिवार्य तौर पर आयोजित होंगी। इसे एक्स्ट्रा कैरिकुलर एक्टिविटीज में शामिल किया है।

स्कूलों में आयोजित होने वाले साप्ताहिक कार्यक्रम

  • पहला शनिवार-किसी एक महापुरुष के जीवन पर आधारित प्रेरणादायक कहानी छात्रों को सुनाई जाएगी।
  • दूसरा शनिवार– शिक्षा से जुड़ी प्रेरणादायक कहानी सुनाई जाएंगी। इसके अलावा संस्कार सभा के तहत दादी-नानी कहानियां सुनाई जाएंगी।
  • तीसरा शनिवार– देश की समसामयिक घटनाओं की समीक्षा और किसी संत-महात्मा का उपदेश कार्यक्रम।
  • चौथा शनिवार-साहित्य, महाकाव्यों पर प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम कराया जाएगा।
  • पांचवां शनिवार-प्रेरक नाट्य का मंचन और छात्रों द्वारा राष्ट्र भक्ति गीत गायन कार्यक्रम का आयोजन।

शिक्षा विभाग ने जारी किया छुट्टियों का कार्यक्रम

इनके साथ ही शिक्षा विभाग ने सत्र 2018-19 की छुट्टियों का कार्यक्रम भी घोषित कर दिया है। यह इस प्रकार से होगा…

  • मौजूदा सत्र में 1 जुलाई, 2018 से 30 जून, 2019 तक 241 दिन स्कूल खुलेंगे।
  • पूरे सत्र में 53 रविवार और 71 अवकाश रहेंगे।
  • स्कूलों में 29 अक्टूबर से 9 नवंबर तक मध्यावधि अवकाश और 25 दिसंबर से 7 जनवरी, 2019 तक शीतकालीन अवकाश रहेंगे।
  • ग्रीष्मावकाश 10 मई से 18 जून, 2019 तक होंगे।
  • जिला स्तरीय पर प्राथमिक स्कूली खेलकूद प्रतियोगिता 25 से 27 सितंबर के बीच होगी। एक मई से 2019-20 का नया सत्र शुरू होगा।

read more: विश्व रक्तदान दिवस आज, रक्तदान-महादान से जुड़कर बच सकती हैं किसी की सांसें

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.