प्रदेश में कर्जमाफी योजना के लिए जिला स्तरीय कमेटी का गठन

राजस्थान सरकार ने वर्ष 2018-19 के बजट में प्रदेश के 30 लाख से अधिक किसानों का कर्जमाफ करने की ऐतिहासिक घोषणा की थी। राजे सरकार अब इसे मूर्तरूप देने जा रही है। दरअसल, प्रदेश के सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक ने मंगलवार को बताया कि वर्ष 2018-19 के बजट में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे द्वारा सहकारी बैंकों से जुड़े किसानों के लिए कर्जमाफी की बड़ी घोषणा को मूर्तरूप प्रदान करने के लिए सभी जिलों में जिला स्तरीय कमेटी का गठन कर दिया गया है। सहकारिता मंत्री किलक ने बताया कि इस कमेटी में संबंधित जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक के प्रबंध निदेशक को समन्वयक तथा जिला इकाई उप रजिस्ट्रार, विषेश लेखा परीक्षक, प्राथमिक सहकारी भूमि विकास बैंक के सचिव या शाखा प्रबंधक व पैक्स व्यवस्थापक या शाखा सचिव, प्राथमिक सहकारी भूमि विकास बैंक को सदस्य बनाया गया है।

news of rajasthan

File-Image: राजस्थान सरकार ने कर्जमाफी योजना के लिए जिला स्तरीय कमेटी का गठन किया.

कृषकों के माफ किए जा रहे ऋण का परीक्षण करेगी जिला स्तरीय कमेटी

सहकारिता मंत्री किलक ने बताया कि संबंधित ऋण पर्यवेक्षक एवं शाखा प्रबंधक द्वारा द्वारा सत्यापित पात्र कृषकों की सूची में किसी प्रकार की गलती न रहे इसके लिए जिला स्तरीय कमेटी न्यूनतम 10 प्रतिशत कृषकों का माफ किए जा रहे ऋण का परीक्षण करेगी। प्रमुख शासन सचिव, सहकारिता अभय कुमार ने बताया कि परीक्षित सूचियों में पारदर्शिता बनाए रखने के लिए उक्त कमेटी सहकारी बैंक की शाखा एवं समिति के नोटिस बोर्ड पर चस्पा करेगी तथा इस संबंध में दैनिक समाचार पत्र में बतौर समाचार भी प्रकाशित करवाएगी। उन्होंने बताया कि यह कमेटी प्रकाशित सूची पर आपत्तियों को प्राप्त कर उनका 7 दिवस में निस्तारण करेगी।

योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए समुचित प्रचार-प्रसार की व्यवस्था करेगी समिति

प्रमुख शासन सचिव, सहकारिता कुमार ने बताया कि किसी किसान द्वारा की गई आपत्ति सही पाई जाती है तो समिति उसकी सूचना को तत्काल साफ्टवेयर में अपडेट करवाते हुए तैयार की गई पात्र किसानों की अन्तिम सूची का प्रकाशन करवाएगी। उन्होंने बताया कि अन्तिम सूची के आधार पर सहकारी बैंक की पुस्तकों में माफी योग्य राशि का इन्द्राज कर राज्य सरकार को क्लेम प्रेषित करने का दायित्व जिला स्तरीय कमेटी का होगा। रजिस्ट्रार, सहकारिता राजन विशाल ने बताया कि समिति जिले में आयोजित होने वाले कर्जमाफी प्रमाण पत्र वितरण शिविरों के संबंध में पर्यवेक्षण करेगी। उन्होंने बताया कि यह समिति योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए समुचित प्रचार-प्रसार की व्यवस्था करेगी।

Read More: राजस्थान पुलिस कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा 2018: आयु सीमा बढ़ाकर 27 साल तक की

विशाल ने बताया कि यह समिति परिवेदना निवारण कमेटी के संबंध में सूचना सहकारी बैंक की प्रत्येक शाखा एवं पंचायत समिति कार्यालय के नोटिस बोर्ड पर चस्पा करवाएगी ताकि कोई भी ऎसा किसान जो जिला स्तरीय कमेटी के समक्ष रखी गई आपत्ति के निस्तारण से संतुष्ट नहीं होने पर परिवेदना निवारण कमेटी के सम्मुख अपना पक्ष प्रस्तुत कर सके।

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.