news of rajasthan
No new date announce for RAS Mains exam in RPSC meeting.

स्कूल व्याख्याता भर्ती परीक्षा की तैयारियां कर रहे प्रदेश के लाखों अभ्यर्थियों के लिए राजस्थान सरकार की ओर से राहतभरी ख़बर आई है। राज्य के लगभग सभी जिलों में काफी समय से स्कूल व्याख्याता भर्ती परीक्षा की तारीख को आगे बढ़ाने के लिए प्रदर्शन कर रहे छात्रों की मांग मान ली गयी है। राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने व्याख्याता भर्ती परीक्षा आगे बढ़ाने का निर्णय लिया है। जिसके तहत राजस्थान लोक सेवा आयोग को एक पत्र लिख परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाने के आदेश दिए हैं। गौरतलब है कि प्रदेश में 15 से 23 जनवरी तक होने वाली व्याख्याता भर्ती परीक्षा आयोजित की जानी है।

news of rajasthan
File-Image: आरपीएससी.

शिक्षा मंत्री डोटासरा का पत्र राजस्थान लोक सेवा आयोग को मिला

हाल ही में बेरोजगार छात्र और सरकारी स्कूलों के शिक्षकों ने इसकी तिथि आगे बढ़ाने की मांग की थी। अभ्यर्थियों ने उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट से मिलकर तिथि को आगे बढ़ाने की मांग की थी। जिस पर पायलट ने स्कूल व्याख्याता भर्ती परीक्षा को ​आगे बढ़ाने का आश्वासन दिया था। आरपीएससी के सूत्रों के अनुसार शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा का पत्र आयोग को मिल गया है। जिस पर आयोग के सभी बड़े अधिकारी चर्चा करके जल्द ही कोई फैसला लेंगे। पत्र में लिखा गया है कि स्कूल व्याख्याता पद की तैयारी के लिए समय प्रदान करने के लिए परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाई जाए। जानकारी के लिए बता दें कि पिछले काफी समय से इस परीक्षा की तारीख को आगे बढ़ाने के लिए प्रदेशभर में छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं।

Read More: प्रदेश में आज से ग्राम पंचायत मुख्यालय पर ‘काम मांगों’ विशेष अभियान शुरू

प्रदर्शन कर रहे छात्रों का कहना था कि वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार ने जाते-जाते अंतिम वर्ष में भारी संख्या में भर्तियां निकाली। एक के बाद एक भर्ती आयोजित होने से अभ्यर्थियों को प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए पर्याप्त समय नहीं मिल पाया है। दो नवम्बर को ग्रेड सेकंड परीक्षा हुई थी और अब व्याख्याता परीक्षा है। दोनों का पाठ्यक्रम अलग है। वहीं, प्रदर्शन में शामिल ग्रेड थर्ड शिक्षकों का कहना था कि वे बीते दो माह तक चुनाव ड्यूटी में होने से व्याख्याता भर्ती परीक्षा की तैयारी नहीं कर सके। इसलिए सरकार को स्कूल व्याख्याता भर्ती परीक्षा तारीख को आगे बढ़ाने का निर्णय लिया जाना चाहिए। जिससे अभ्यर्थी तैयारी के साथ परीक्षा में बैठ सके।

 

LEAVE A REPLY