देश का सबसे बड़ा डिजास्टर रिकवरी डाटा सेंटर जोधपुर में शुरू, राज्य सरकार के 170 विभागों का डेटा रहेगा सेफ

राजस्थान के जोधपुर में देश का सबसे बड़ा डिजास्टर रिकवरी डाटा सेंटर शुरू हो गया है। अब प्रदेश में किसी भी प्रकार के कुदरती कहर या अन्य कोई आपातकालीन स्थिति में राज्य सरकार के 170 से ज्यादा विभागों और इनमें विभिन्न जन-सुविधाओं से जुड़े पोर्टल बंद नहीं होंगे। जोधपुर में करीब 50 करोड़ रुपए की लागत से बने इस डीआरडीसी सेंटर का मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने हाल ही में बीकानेर में हुए डिजिफेस्ट-2018 के समापन समारोह में औपचारिक उद्घाटन किया था। इसके साथ ही यहां राज्य सरकार के महत्वाकांक्षी आॅफिस ऑटोमेशन प्रोजेक्ट ‘ई-साइन’ का डाटा सेंटर स्थापित किया जा चुका है। इसका शुरुआती परीक्षण भी पूरा किया जा चुका है।

news of rajasthan

File-Image: देश का सबसे बड़ा डिजास्टर रिकवरी डाटा सेंटर जोधपुर में शुरू.

‘ई-सिग्नेचर’ का डाटा सेंटर भी जोधपुर में स्थापित

सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग (डीओआईटी) की ओर से राज्य सरकार की महत्वपूर्ण योजनाएं, जिनमें भामाशाह, ई-मित्र की 370 से ज्यादा सेवाओं में राशन डीबीटी, पेंशन, मूल निवास, जाति, जन्म, मृत्यु सहित अन्य प्रमाण पत्र, राजस्थान संपर्क ई-पीडीएस, स्टेट पोर्टल, इंटीग्रेटेड गवर्नमेंट पोर्टल व सेवाओं के विस्तार के लिए आधारभूत संरचना का विस्तार किया जा रहा है। इसके अलावा साइट पर डिजिटल सिग्नेचर के नए रूप आधार आधारित ‘ई-सिग्नेचर’ का डाटा सेंटर भी जोधपुर में स्थापित किया जा चुका है। इसके माध्यम से आमजन व सरकारी विभागों के अधिकारियों को डॉक्यूमेंट्स पर ई-सिग्नेचर की सुविधा मिल भी रही है। माना जा रहा है कि इस प्रकार का भारत में किसी भी राज्य का पहला डिजास्टर रिकवरी डेटा सेंटर है।

Read More: राज्य सरकार ने चलन निःशक्त स्टूडेंट्स से मोटराईज्ड ट्राईसाईकिल के लिए मांगे आवेदन

वर्तमान व भविष्य की मांग को देखते हुए डिजाइन किया गया है डाटा सेंटर

जोधपुर स्थित डिजास्टर रिकवरी डाटा सेंटर का डिजाइन राजस्थान की वर्तमान और भविष्य की डिमांड को देखते हुए ही बनाया गया है। यहां आने वाले दिनों में कई और अत्याधुनिक उपकरण इंस्टाल किए जाएंगे। फिलहाल, इस डाटा सेंटर पर इंस्टालेशन और 5 वर्षों के लिए मेंटिनेंस का काम आईबीएम के विशेषज्ञों के हाथों में सौंपा गया है। सेंटर के सर्वर फार्म एरिया में 80 रैक की क्षमता है। इनमें 40 पेटा बाइट से ज्यादा की स्टोरेज कैपेसिटी है। वर्तमान में राज्य सरकार के इन सभी एप्लीकेशन का डाटा बैकअप एंड रिस्टोरेशन प्रोसेस भी वर्ल्ड क्लास टेक्नोलॉजी से शुरू किया जा चुका है। यह बैकअप प्रोसेस रोजाना अपडेट किया जा रहा है। आने वाले समय में अन्य राज्यों को भी यहां सुविधा उपलब्ध कराई जा सकती​ है।

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.