अगर इतनी चर्चा राजस्थान के विकास पर होती तो शायद तस्वीर कुछ अलग होती…

प्रदेश में मुख्यमंत्री दावेदार पर पिछले चार दिन से चर्चा, पायलट-गहलोत समर्थकों सहित अड़े

news of rajasthan

राजस्थान विधानसभा चुनावों का परिणाम 11 दिसम्बर को घोषित हो चुके हैं लेकिन अभी तक प्रदेश में मुख्यमंत्री उम्मीदवार तक तय नहीं हो पाया है। कांग्रेस पार्टी और आलाकमान पिछले तीन दिनों से केवल मुख्यमंत्री के नाम पर विचार-विमर्श किया जा रहा है। इस चर्चा में पायलट-गहलोत के साथ राहुल-सोनिया-प्रियंका गांधी तक शामिल रहे। मुद्दा यह नहीं है कि राजस्थान की सत्ता किसके हाथों में आएगी। असल में मुद्दा यह है कि इतनी चर्चा पिछले 50 सालों में अगर विकास के कार्यों पर की जाती तो शायद प्रदेश की तस्वीर कुछ अलग होगी।

राजस्थान में हुए विकास और प्रदेश की जनता इस बात की गवाह है कि मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे के नेतृत्व में पिछले 5 साल में क्या हुआ और कैसे प्रदेश की तस्वीर बदली है। कैसे राजस्थान बिमारु राज्यों की लिस्ट से निकल एक विकासशील राज्यों की श्रेणी में शामिल हुआ। कैसे साक्षरता में निचले पायदान से उठकर टॉप लिस्ट में पहुंचा। कैसे यहां की महिलाएं अब आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ रही हैं। कैसे यहां की बच्चियां निड़र होकर शिक्षा के लिए पहुंच रही हैं और कैसे यहां का लिंगानुपात पहले से कहीं अधिक बेहतर स्थिति में पहुंचा है।

Read more: गहलोत के गढ़ में लगे पायलट को मुख्यमंत्री बनाने के लिए पोस्टर, दो धड़ों में बंटी कांग्रेस

अब पिछले बातों पर वापिस आते हैं। कांग्रेस ने चुनावों से पहले ही सीना तान कहा था कि हम प्रदेश में ये करेंगे, वो करेंगे लेकिन जो पार्टी अपने कप्तान का फैसला तीन दिन में न कर पायी हो, क्या सबूत है कि वह प्रदेश में विकास कर भी पाएगी क्योंकि पार्टी और प्रदेश के नेताओं के बीच चल रही आपसी द्वंद्व कई बार सबसे सामने सार्वजनिक तौर पर सामने आ चुकी है।

अब देश की राजधानी दिल्ली में पिछले 2 दिनों से मुख्यमंत्री नाम को लेकर चल रही बैठकों का दौर पार्टी में एकजुटता तो बिलकुल नहीं बयां कर रही है। एक ओर तो पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने अनुभव का वास्ता देकर अपने आपको मुख्यमंत्री प्रत्याशी बनाने पर जोर दे रहे हैं। वहीं वर्तमान पार्टी प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट अपनी पिछले 5 साल की मेहनत को गिना रहे हैं। अब जो भी इन सभी के बीच हो, कहा तो यही जा सकता है कि इतना समय भी अगर आप प्रदेश के विकास पर देंगे तो राज्य देश के नक्शे पर एक आयाम लिखते हुए दिखाई देगा।

Read more: पायलट को सीएम बनाने की मांग पर समर्थकों ने की तोड़फोड़, नहीं बने तब क्या होगा…

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.