news of rajasthan
Our government has taken everyone together and developed everything: Chief Minister Raje.

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपने दो दिवसीय डूंगरपुर जिले के दौरे के पहले दिन लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी सरकार ने जाति, धर्म या पार्टी को आधार मानकर विकास कार्य नहीं करवाए, बल्कि सबको साथ लेकर सबका विकास कर रही है। उन्होंने कहा कि समाज के वंचित, गरीब और जरूरतमंद तबके को लाभान्वित करना ही हमारी सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का उद्देश्य है, फिर चाहे उनका सम्बन्ध किसी भी राजनीतिक विचारधारा से क्यों न हो। मुख्यमंत्री राजे सोमवार को डूंगरपुर में डूंगरपुर विधानसभा क्षेत्र के लाभान्वितों और प्रबुद्धजनों से जनसंवाद कर रही थीं। राजे ने कहा कि साढ़े चार साल में हमारी सरकार ने डूंगरपुर जिले में अभूतपूर्व विकास करवाया है। उन्होंने कहा कि बीते साढ़े चार साल में डूंगरपुर जिले में 8135 करोड़ रुपए के विकास कार्य स्वीकृत करवाए गए हैं, जबकि पिछली सरकार ने 5 वर्ष में 1800 करोड़ रुपए ही खर्च किए थे।

news of rajasthan
Image: सोमवार को डूंगरपुर विधानसभा क्षेत्र के लोगों से जनसंवाद के दौरान मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे. 

सड़क तंत्र घनत्व के मामले में डूंगरपुर आज पूरे देश में सबसे आगे

मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि एक वक्त था जब लोग यहां से छोटे-छोटे कामों के लिए भी अहमदाबाद जाते थे। डूंगरपुर में सड़कों का बुरा हाल था, आज वही डूंगरपुर सड़क तंत्र घनत्व के मामले में पूरे देश में सबसे आगे है। उन्होंने कहा कि पूरे देश में इस वर्ष 11 मेडिकल कॉलेज शुरू हुए हैं, जिनमें से सात राजस्थान में और उनमें से भी एक मेडिकल कॉलेज डूंगरपुर में खुला है। यहां मेडिकल छात्रों की प्रवेश प्रक्रिया चल रही है और बहुत जल्दी विधिवत कक्षाएं भी शुरू हो जाएंगी। इसका लाभ पूरे क्षेत्र की जनता को मिलेगा। सीएम राजे ने कहा कि साफ-सफाई और सुंदरता में डूंगरपुर का जो कायाकल्प पिछले साढ़े चार साल में हुआ है, वह किसी से छिपा नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि निश्चित तौर पर आने वाले दिनों में पर्यटन में वृद्धि के रूप में इसका फायदा देखने को मिलेगा।

Read More: छोटे-छोटे कदम आगे बढ़ाकर राजस्थान आज कौशल विकास में सिरमौर बना: मुख्यमंत्री राजे

डूंगरपुर जिले में आंगनवाड़ी केन्द्रों के बच्चों को भी मिलेगा दूध

मुख्यमंत्री राजे ने अन्नपूर्णा दूध योजना की तर्ज पर भामाशाहों के सहयोग से डूंगरपुर जिले के 27 हजार 900 से अधिक आंगनवाड़ी बच्चों को दूध पिलाने की पहल का भी शुभारंभ किया। उन्होंने इस अवसर पर आंगनवाड़ी के बच्चों को अपने हाथ से दूध पिलाया और दुलार किया। डूंगरपुर जिला प्रशासन की इस अनूठी पहल में ग्रीन मार्बल एसोसिएशन ने 15 लाख रुपए, सोप स्टोन व क्रेशर एसोसिएशन ने 3 लाख रुपए, जिला कलक्टर, एसपी ने एक माह का वेतन और जिले के अधिकारी व कर्मचारियों ने एक दिन का वेतन स्वैच्छिक रूप से दिया है। बता दें,  इससे पहले प्रदेश में हाल ही में अन्नपूर्णा दूध योजना शुरू की गई है, जिसके तहत सरकारी स्कूलों के बच्चों को गर्म व ताजा दूध उपलब्ध कराया जा रहा है।

 

LEAVE A REPLY