news of rajasthan
No need for any designation to serve: CM Raje.

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने श्री सत्य साई अस्पताल, राजकोट द्वारा श्री सत्य साई कॉलेज, जयपुर के परिसर में आयोजित निःशुल्क हृदय रोग निदान शिविर को सम्बोधित करते हुए कहा कि सेवा करने के लिए व्यक्ति को किसी पदनाम की जरूरत नहीं होती है। मन में सेवा का भाव हो तो यह कार्य किया जा सकता है। रविवार को आयोजित हुए शिविर में सीएम राजे ने कहा कि मानव सेवा अपने आप में किसी साधना से कम नहीं है। व्यक्ति को अपने जीवन में कुछ समय सेवा कार्य में जरूर लगाना चाहिए। उन्होंने कहा कि श्री सत्य साई बाबा द्वारा बताई गई पांच चीजों को जीवन में अपनाकर व्यक्ति स्वयं के साथ-साथ दूसरों के जीवन में भी परिवर्तन ला सकता है।

news of rajasthan
Image: सेवा करने के लिए किसी पदनाम की जरूरत नहीं: सीएम राजे.

सभी मजहब के लोगों को जोड़कर पूरी दुनिया में फहराया जा सकता है भारतवर्ष का परचम

सीएम राजे ने कहा कि भगवान श्री सत्य साई के दर्शन एवं उनका आशीर्वाद प्राप्त करने का मौका उन्हें भी मिला था। उन्होंने जो मानव मात्र की सेवा के लक्ष्य के साथ कार्य किए हैं, वे कार्य कोई साधारण व्यक्ति नहीं कर सकता। उनके आर्दशों को अपनाते हुए सत्य, अहिंसा और प्रेम के मार्ग पर चलते हुए सभी जाति और मजहब के लोगों को एक परिवार के रूप में जोड़कर हमारे भारतवर्ष का परचम पूरी दुनिया में फहराया जा सकता है। मुख्यमंत्री ने शिविर में कहा कि राज्य सरकार की ओर से रोगियों के लिए किसी भी तरह की सुविधा प्रदान करने में कोई कमी नहीं रखी जाएगी।

Read More: पटवारी और ग्राम सेवक के 744 पदों पर जल्द ही भर्ती करेंगी राजस्थान सरकार

प्रदेश में हॉस्पिटल के लिए सरकार जमीन एवं अन्य आवश्यक सुविधाएं प्रदान करने को तैयार

सीएम राजे ने राजकोट एवं अहमदाबाद में स्थापित श्री सत्य साई अस्पताल जैसा ही एक हॉस्पिटल राजस्थान में भी स्थापित करने का आग्रह श्री सत्य साई ट्रस्ट से जुड़े लोगों से किया, ताकि असहाय एवं जरूरतमंद लोगों को नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जा सके। उन्होंने आश्वस्त किया कि ट्रस्ट इस दिशा में कदम उठाए तो राज्य सरकार इसके लिए जमीन एवं अन्य आवश्यक सुविधाएं प्रदान करने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि राजस्थान के लोगों में भी सेवाभाव की कोई कमी नहीं है। इससे पहले सीएम राजे ने शिविर में जाकर जांच कराने आए बच्चों से मुलाकात की और उनकी हौसला अफजाई की। मुख्यमंत्री को देखकर गोविन्दपुरा भीलवाड़ा से अपने बेटे आयुष को लेकर आया नन्दलाल भावुक हो गया। सीएम ने नन्दलाल को सांत्वना देते हुए बच्चे के इलाज के लिए हर संभव सहायता देने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

 

LEAVE A REPLY