राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह : सड़क पर पैदल चलने के नियम
सड़क पर पैदल चलने के नियम

राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह पावन पर्व के मौके पर हम और आप बात कर रहे हैं। बात कर रहे हैं यातायात के नियमों की। पहले और दूसरे भाग में आपने पढ़ा, सड़क की अपनी भाषा होती है। जो दो प्रकार की होती है। पहली रोड सिग्नल व दूसरी रोड साईन। रोड सिग्नल सड़क की मूक भाषा होती है। जबकि रोड साईन निर्जीव मार्गदर्शक भाषा होती है। जिनके बारे में आप पहले के भागों में पढ़ सकते हैं। तो पहले तो हमने सड़क पर चलने वाले वाहनों के नियम और तरीकों के बारे में बात की।

लेकिन अब हम बात करेंगे कि सड़क पर केवल वाहनों के लिए ही नियम नहीं होते। बल्कि पैदल चलने वालों के लिए भी कुछ नियम-कायदे होते हैं। क्योंकि सड़क दुर्धटना और मौत किसी को बताकर नहीं आते। लेकिन जब आते हैं, तो हम ये नहीं कह सकते की गलती किसी एक की है। दुर्घटना किसी की भी गलती से हो सकती है। फिर वो चाहे ड्राइवर हो या पैदल चलने वाला व्यक्ति। इसलिए हम पैदल यात्रियों के लिए यातायात नियमों के बारे में जानते हैं।

तो शुरू करें…! रेडी…! स्टडी…! एंड गो…!

सड़क पर पैदल चलने के नियम :

अंतरराष्ट्रीय सड़क महासंघ के मुताबिक सड़क पर चलने के निम्नलिखित नियम होते हैं।

  • कभी किसी वाहन के पीछे ना भागें।
  • सड़क पर चलते फ़ोन पर बात न करें।
  • सड़क पर लगे अवरोधों और बैरियर न फांदें।
  • किसी प्रकार का नशा करके सड़क पर ना चलें।
  • कभी सड़क के बीच में ना चलें ना ही ऐसा ख़याल करें।
  • फुटपाथ पर नहीं चलने पर हादसे का शिकार हो सकते हैं।
  • दायीं ओर चलने पर सामने से आ रहे वाहन दिखते रहते हैं।
  • जबकी बायीं चलने पर पीछे से आ रहे वाहन नहीं दिखते हैं।
  • हमेशा सड़क समपार या रोड क्रॉसिंग से ही सड़क पार करें।
  • किसी वाहन का इंतज़ार सड़क के बीच में खड़े होकर ना करें।
  • जब तक संभव हो फुटओवर ब्रिज और सबवे का उपयोग करें।
  • सड़क पर बच्चों का फुटपाथ की तरफ़ अच्छे से हाथ पकड़कर चलें।
  • सड़क पर चलते समय अखबार, होर्डिंग और मोबाइल-टैबलेट ना पढ़ें।
  • ट्रैफिक जाम होने पर उसकी उल्टी दिशा में फुटपाथ के किनारे न चलें।
  • दिन में सड़क पर पैदल निकलें तो हल्के रंग के या चमकदार कपड़े पहनें।
  • बच्चों के साथ सड़क पर पैदल चलते समय बच्चों और ट्रैफ़िक के बीच में ख़ुद को रखें।
  • शाम या रात के समय सड़क पर पैदल निकलें तो हल्के व परछाईं देने वाले कपड़े पहनें।
  • हमेशा फुटपाथ का प्रयोग करें। फुटपाथ नहीं होने की स्थिति में सड़क के दायीं ओर चलें।
  • आपातकालीन वाहनों जैसे एंबुलेंस, फायर इंजन, पुलिस की गाड़ी आदि को पहले निकलने दें।
  • वाहन चालकों के साथ आँखों का संपर्क रखना चाहिए ताकि वह भी वाहन को आप से दूर रखे।
  • समपार/रोड क्रॉसिंग नहीं होने की स्थिति में दोनों तरफ ट्रैफिक लाइट और वाहन देखकर ही सड़क पार करें।
  • अँधेरे में समय सड़क पर पैदल निकलें तो कलाई वाले चमकीले बैंड्स, कमरबंद, वेस्ट कोट्स और जैकट पहनें।
  • ज़ेब्रा क्रॉसिंग पर खड़े न रहें।सड़क पर चलते समय आस-पास से गुजरने वाले वाहनों का सतर्कता पूर्वक ध्यान रखना चाहिए।

तो ये थे सड़क पर पैदल चलने के नियम। हो सकता है इनमे से कुछ के बारे में आप पहले से जानते हों या कुछ के बारे में नहीं जानते हो। शायद कुछ लोगों को बिल्कुल नहीं पता हो। या फिर किसी नियम के बारे में गलत पता हो। जैसे हम ख़ुद आजतक सड़क पर चलते समय बायीं तरफ़ चलते थे। और सोचते थे कि हम सही चल रहे हैं। लेकिन आज हमने जाना कि हमेशा सड़क के दायीं ओर चलना चाहिए।

इसलिए हमने अपनी और आपकी सुरक्षा में लगभग लगभग सारे नियम-कानून लगा दिए हैं। लेकिन फिर भी अगर कोई छूट गया हो तो आप कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं। आगे हम बात करेंगे कि सड़क पर होने वाले हादसों की वजह और कारण क्या होते हैं? और उनसे कैसे सावधानी बरत सकते हैं? तब तक के लिए सतर्क रहिये, सुरक्षित चलिए और सही सलामत घर पहुंचिए। क्योंकि घर पर कोई आपका गुलाब लेकर इंतज़ार कर रहा हैं। आज गुलाब दिवस जो है ना। हैप्पी रोज़डे…! रोज़ डे।

Read More : राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह : न तूने सिग्नल देखा, न मैंने सिग्नल देखा, एक्सीडेंट हो गया, रब्बा रब्बा… – पार्ट-2

LEAVE A REPLY