क्या है राजस्थान कुसुम योजना, कैसे करें आवेदन जानिए …

news of rajasthan

कुसुम योजना केंद्र सरकार द्वारा किसानों के लिए चलाई जा रही एक महत्वकांक्षी योजना है जो हाल ही में लॉन्च की गई है। वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा बजट में वर्ष 2018-19 से लागू किए जाने वाली कुसुम योजना का एलान किया है। इस योजना का पूरा नाम ‘किसान उर्जा सुरक्षा व उत्थान महाभियान’ रखा गया है। कुसुम योजना के तहत वर्ष 2022 तक देश में तीन करोड़ सिंचाई पापों को डीजल या बिजली के स्थान पर सौर ऊर्जा से चलाये जाने का लक्ष्य है।

क्या है कुसुम योजना

कुसुम योजना के तहत सरकार किसानों को खेतों के ऊपर या मेड़ों पर सौर उर्जा संयंत्र लगाकर बिजली उत्पादन करने की छूट देगी। जिससे किसानों के कृषि कार्य में बिजली के आपूर्ति से सम्बंधित समस्याओं का निदान हो जाएगा। तथा किसानों द्वारा अपने जरूरत के अतिरिक्त बची हुई बिजली को ग्रिड में देने पर उसका मूल्य भी प्राप्त होगा। इस योजना के पूर्णतया लागू हो जाने पर किसानों को आय का दूसरा साधन भी उपलब्ध होगा।

कुसुम योजना का उद्देश्य

  • कुसुम योजना के तहत वर्ष 2022 तक देश में तीन करोड़ सिंचाई पम्पों को सौर ऊर्जा से चलाये जाने का लक्ष्य रखा गया है।
  • कृषि क्षेत्र में किसानों के बिजली से सम्बंधित समस्याओं का समाधान करना है। इस योजना के माध्यम से गांवों में भी 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराई जा सकेगी।
  • इस योजना के क्रियान्वयन द्वारा बिजली एवं डीजल की बचत होगी जिसका प्रयोग अन्य क्षेत्र में किया जा सकेगा।
  • एक अनुमान के अनुसार यदि कृषि क्षेत्र में उपयोग होने वाले सभी सिंचाई पम्पों को सौर उर्जा से चलाया जायेगा, तो 28 हज़ार मेगावाट बिजली की बचत होगी।

कुसुम योजना के परिणाम

  • कुसुम योजना के तहत किसान केंद्र एवं राज्य सरकार के मदद से सौर ऊर्जा संयंत्र अपने खेत में लगाकर पानी के आभाव की समस्या से निदान पाने में सफल हो सकेंगे।
  • इस योजना के क्रियान्वयन के पहले चरण में सिंचाई के लिए डीजल से चलने वाली 17.5 लाख सिंचाई पम्प को सौर उर्जा से चलाया जाएगा।
  • इस योजना के तहत सौर उर्जा संयंत्र खेतों में लगाने का कुल खर्च रूपए 1.40 लाख करोड़ रुपए आएगा। इसमें से 48 हजार करोड़ रुपए केंद्र सरकार और इतनी ही धनराशि का योगदान राज्य सरकारों का होगा। किसानों को केवल 10 प्रतिशत धनराशि अग्रिम जमा करनी होगी।
  • इस योजना के तहत अपने खेत में सौर उर्जा संयंत्र लगाकर मुफ्त में बिजली उपलब्ध हो सकेगी। साथ ही उपयोग से बची हुई बिजली किसान बिजली वितरण कम्पनी को बेच कर अतिरिक्त आय के साधन के रूप में उपयोग किया जा सकता है।

ऐसे करें ऑनलाइन आवेदन

किसान ऊर्जा सुरक्षा व उत्थान अभियान योजना के लिए जल्दी हीं ऑफिशियल वेबसाइट के माध्यम से वेब पोर्टल का संचालन किया जाएगा जिसके द्वारा इस योजना के फॉर्म को भरकर आवेदन करने की सुविधा उपलब्ध होगी। इस योजना के आवेदन से सम्बंधित जानकारी उपलब्ध होने पर आपको इस लेख में अपडेट प्राप्त हो जाएगा।

Read more: मुख्यमंत्री राजे को आरएसडब्ल्यूसी की ओर से 1.17 करोड़ का लाभांश चैक भेंट किया

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.