बीएसएफ और भारतीय वायु सेना की महिला कमांडोज़ कैमल सफ़ारी से जैसलमेर के रामगढ़ में पहुंची। यह अपने तरह का पहला पूर्ण तय महिला अभियान है जो स्वतंत्रता दिवस के दिन झंडा दिखाकर उत्तरलाई, बाड़मेर से रवाना हुए था। यह महिला दस्ता गुजरात के कछ, राजस्थान के थार से होते हुए अटारी पंजाब के आगे वागा बॉर्डर तक जाएगी, जो की भारत का पश्च्मि अंतराष्टीय बॉर्डर है।

अभियान में 10 महिलाएं वायु सेना से है और 16 महिलाएं बीएसएफ से है। जो की सफ़र के दौरान लोगों से मिल के उनको को “स्वच्छ भारत” और “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” का संदेश देती है और अभियान का लक्ष्य भी ये ही है।  बीएसएफ की पहली महिला अधिकारी तनुश्री पारीक  भी इस अभियान का हिसा है, इस अभियान के अंतर्गत 443 किलोमीटर गुजरात, 609 किलोमीटर राजस्थान का और 316 किलोमीटर पंजाब का सफ़र तय करेगी।

Read More:- http://newsofrajasthan.com/bsf-camel-contingent-delhi-republic-day-parade/

टीम युवाओ को बीएसएफ और आईएएफ में महिलाओ के लिए विभिन्न करियर विकल्पों के बारे में जागरूकता फैलती है। यह टीम सभी महिलाओं, नागरिकों विशेषकर युवा लड़कियों के लिए बड़ी प्रेरणा बन रही है। उम्मीद है कि इससे प्रेरणा ले के युवा लड़कियां शिक्षित और जागरूक होंगी और अपने आपको सशक्त बनाएगी।

LEAVE A REPLY