ग्राम- कोटा में हुए कृषि विकास की स्वर्णिम संभावनाओं के एमओयू

राजस्थान में किसानों की आर्थिक प्रगति और खेती में तकनीक के साथ-साथ नवाचार को प्रेरित करने के लिए आयोजित किये गए, ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट (ग्राम) कोटा-2017 के दूसरे दिन गुरूवार को मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे की उपस्थिति में  कृषि, कृषि प्रसंस्करण, कृषि विपणन एवं पशुपालन के क्षेत्र में 955 करोड़ 37 लाख रुपये के प्रस्तावित निवेश के कुल 21 एमओयू पर हस्ताक्षर किये गये। यह निवेश प्रदेश में कृषि विकास की नयी संभावनाओं के द्वार खोलने का काम करेंगे। प्रदेश का किसान आज नई तकनीक से जुड़ने, नवाचारों को अपनाने और आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं और इसी का परिणाम है कि ग्राम कोटा में हर रोज करीब 15 हजार से अधिक किसान पूरे उत्साह के साथ अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर रहे हैं।

हाड़ौती अंचल में खेतीबाड़ी और किसानों के लिए स्वर्णिम युग का शुभारम्भ करने वाले इन एमओयू से 27 हजार से अधिक लोगों को प्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिलने की संभावना है।

gram-mou

निवेशकों की सराहना के साथ प्रस्तावों पर जल्द काम करने के दिए निर्देश:

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ग्राम- कोटा में राजस्थान के किसानों और खेतीबाड़ी से जुड़े इन निवेशों के प्रस्तावों पर प्रसन्नता जताई। मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि हमारे लिए छोटे से छोटा निवेश भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि इसमें निवेश की राशि से अधिक प्रदेश के विकास में सहभागिता की भावना झलकती है। सभी निवेशकों को बधाई और आभार देते हुए मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि प्रदेश की विषम भौगोलिक परिस्थितियों के बावजूद निवेशकों ने इनसे तालमेल बिठाते हुए विषमताओं को संभावनाओं में बदलने का संकल्प लिया है। निवेशकों का यह कदम सराहनीय है।

किसानों को जल्द से जल्द आर्थिक मदद मिले और राज्य में नवाचार व उन्नत खेती का विकास तेजी से आगे बढ़े, इसके लिए मुख्यमंत्री राजे ने कृषि विभाग की प्रमुख शासन सचिव श्रीमती नीलकमल दरबारी और प्रमुख अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिन जिलों में निवेश के प्रस्ताव आए हैं, वहां के कलक्टरों से बात कर उन्हें निवेशकों के साथ समन्वय स्थापित करने के लिए कहें, ताकि यह निवेश जल्द से जल्द धरातल पर उतर सके। और राज्य के किसान आर्थिक मज़बूती की और बढ़े।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर निवेशकों से बातचीत कर उनके निवेश प्रस्तावों के बारे में जानकारी ली और उनका उत्साहवर्धन किया। इस दौरान रॉयल काजू इण्डस्ट्रीज के प्रतिनिधि ने बताया कि प्रदेश के सीकर क्षेत्र को काजू प्रोसेसिंग का हब बनाया जायेगा।

रंग लाया ग्राम का पहला संस्करण:

ग्राम- कोटा में हाड़ौती संभाग के विकास के एमओयू साइन होने के बाद राज्य के कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने जानकारी दी कि गत वर्ष जयपुर में आयोजित ग्राम-2016 में हुए 4400 करोड़ के 38 एमओयू में से 25 आज धरातल पर आ गए हैं। इन एमओयू पर काम शुरू हो गया है। कंपनियों से बात कर, किसानों को फायदा पहुँचाया जा रहा है। इन एमओयू के प्रोजेक्ट पर काम होने से राज्य में रोजगार की अपार सम्भावनाये बढ़ी है। खेती और किसानों को सीधे कंपनी से संपर्क में लाकर बिचौलिया प्रणाली को सरकार ने ख़त्म कर दिया है। अब किसान को उसकी उपज का पूरा मूल्य मिल रहा है। कृषि मंत्री सैनी ने कहा कि ग्राम-कोटा में साइन हुए सभी एमओयू का सरकार जल्द ही श्री गणेश करने जा रही है। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे के निर्देशानुसार कृषि क्षेत्र में उत्पादन, उत्पादकता, गुणवत्ता, प्रोसेसिंग एवं वेल्यू एडिशन के लिए काम किया जा रहा हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.