कांग्रेस ने 70 साल में गरीबी हटाने का कोई काम नहीं किया: मुख्यमंत्री राजे

केन्द्र और राज्य सरकार की 12 विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से फीडबैक लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शनिवार को एक दिवसीय जयपुर दौरे पर आए। इस दौरान राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपने संबोधन की शुरूआत प्रधानमंत्री का राजस्थान के सात करोड़ लोगों की ओर से हार्दिक अभिनंदन करते हुए की। उन्होंने प्रधानमंत्री के जयपुर पधारने पर उनका धन्यवाद जताया। मुख्यमंत्री राजे ने अमरूदों के बाग में राजस्थान सरकार की योजनाओं से मिले लाभ के बारे में जानकारी दी। इस दौरान सीएम ने स्वास्थ से लेकर युवाओं और श्रमिकों को मिले लाभ के बारे में बताया। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा है कि कांग्रेस अपने 70 साल के शासन में देश से गरीबी नहीं हटा पाई। हमारा लक्ष्य है कि योजना का लाभ हर जरूरतमंद को मिले। हमारा लक्ष्य योजना का लाभ हर किसे को मिले। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने गरीबी हटाने का नारा तो दिया लेकिन 70 साल में देश से गरीबी नहीं हटा पायी। उनहोंने कांग्रेस पर निसाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस ने 70 साल में गरीबी हटाने का कोई काम नहीं किया है।

news of rajasthan

Image: कांग्रेस ने 70 साल में गरीबी हटाने का कोई काम नहीं किया: मुख्यमंत्री राजे.

प्रधानमंत्री ने गरीब के दर्द को समझा: सीएम राजे

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का लाभार्थी संवाद कार्यक्रम में स्वागत करते हुए कहा कि उन्होंने गरीब के दर्द को समझा और जन-धन योजना तथा मोबाइल के माध्यम से यह सुनिश्चित किया कि लाभार्थियों के खाते तक पूरा पैसा बिना किसी लीकेज के पहुंचे। मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि इतने अधिक लाभार्थियों से देश के प्रधानमंत्री सीधे रूबरू हो रहे हों ऐसे संवाद पहली बार हुआ है। राजे ने प्रधानमंत्री आवास योजना, राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम, राजश्री, उज्ज्वला, पालनहार, भामाशाह स्वास्थ्य बीमा, प्रधानमंत्री मुद्रा, कौशल विकास, स्कूटी-साइकिल योजना, श्रमिक कल्याण, भामाशाह, मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन तथा किसानों कल्याण की योजनाओं के लाभार्थियों से प्रधानमंत्री को रूबरू कराया। पीएम मोदी ने इन लाभार्थियों से मुलाकात की। प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए किसानों ने मोदी को हल, जेली तथा बाजरा के सिट्टे भेंट किए तथा न्यूनतम समर्थन मूल्य में वृद्धि के लिए प्रधानमंत्री का आभार जताया।

भामाशाह स्वास्थ बीमा योजना में 22 लाख लोगों का हुआ नि:शुल्क इलाज

मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि भामाशाह स्वास्थ बीमा योजना के अंतर्गत 1500 करोड़ की लागत से 22 लाख लोगों का नि:शुल्क इलाज हुआ है। राजस्थान के 4.50 करोड़ लोग इस स्वास्थ कवच योजना का लाभ ले रहे हैं। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत राज्य में 32.5 लाख परिवारों को लाभ मिला है। राजे ने कहा कि युवाओं को स्किल इंडिया योजना के तहत रोजगार में अब तक 15 लाख अवसर प्रदान किए गए हैं। वहीं प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से राज्य के 44.48 लाख लोगों को लाभ मिला है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत राज्य में 11.95 घरों का निर्माण किया गया। मुख्यमंत्री पालनहार योजना के तहत राज्य में 2.35 लाख लोगों को लाभ मिल चुका है।

बेटियों को प्रोत्साहित करने के लिए चलाई कई योजना

मुख्यमंत्री राजे ने कहा ​कि राज्य सरकार ने बेटियों को प्रोत्साहन देने के लिए कई योजनाएं चलाई है। ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ योजना के तहत मुख्यमंत्री राजश्री योजना के अंतर्गत राज्य की 10 लाख बालिकाओं को लाभ मिला। उन्होंने कहा कि बेटियों को नि:शुल्क साइकिल और स्कूटी देने का काम किया। आज 15 हजार से अधिक स्कूटी और 11 लाख से भी अधिक साइकिल नि:शुल्क बेटियों को दी जा चुकी है। मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि 18 वर्षीय अविवाहित बालिकाओं के लिए शुभ शक्ति योजना शुरू की है जिसके अंतर्गत 55 हजार रुपए की सहायता प्रदान की जाती है। जिससे वे अपने पैरों पर खड़ी हो सके। स्कॉलरशिप, कौशल विकास, पेंशन, दुर्घटना बीमा, आवासीय सुविधा, प्रसूता सहायता और टूल किट योजनाएं वरदान साबित हो रही है। श्रमिक कल्याण कार्ड योजना के तहत राज्य में 3.6 लाख श्रमिकों को 1000 करोड़ की सहायता प्रदान की जा चुकी हैं।

Read More: राजस्थान में अब तक 90 लाख किसानों को मिला सॉयल हेल्थ कार्ड: पीएम मोदी

पानी की समस्या दूर करने के लिए 12 हजार गांव में 3 लाख से ज्यादा ढांचे बनवाए

मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि मुख्यमंत्री जल अभियान योजना में 4148 करोड़ की लागत से 12 हजार गांव में 3 लाख 30 हजार जल ढांचे बन चुके हैं। इस योजना की सफलता इस बात पर आंकी जा सकती है कि जल स्तर डेढ़ मीटर ऊपर आ गया। लगभर 64 फीसदी हैंडपंप सूखे थे। उनके अंदर पानी आ गया। 25 फीसदी कुएं जो सूखे थे, उनमें पानी आ गया। गर्मी में जो टैंकर परिवहन 50 फीसदी कम हो गए। राजस्थान में बूंद-बूंद पानी बचाने के लिए हमने इसके लिए एक महत्वकांशी योजना इस्टर्न राजस्थान कैनाल परियोजना की कल्पना की है। चंबल, बेसन की नदियों पर आधारित 1268 किलोमीटर लंबी ये योजना राजस्थान के लिए एक ऐतिहासिक और जीवनदायनी योजना साबित हो जाएगी। इससे राजस्थान में 13 जिले के लगभग तीन लाख हैक्टर भूमि सींची जा सकती है। साथ ही इन जिलों को पेयजल का लाभ भी मिलेगा।

मुख्यमंत्री राजे ने कहा कि राजस्थान सरकार ने किसानों की उन्नति के लिए कई कदम उठाए हैं। उन्होंने कहा कि हमने 20 हजार 686 करोड़ की लागत से 91 लाख 85 हजार मैट्रिक टन उपज खरीद की है। जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है। राजे ने कहा कि सरकारी बैंक से जुड़े करीब 29 लाख से अधिक लघु और सीमांत व अन्य किसानों का 50 हजार तक का कर्जा माफ किया है।

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.