सीएम राजे ने ली प्रभारी मंत्रियों औऱ सचिवों की बैठक, आमजन को शीघ्र लाभान्वित करने के दिए निर्देश

राजस्थान में तेजी से हो रहे विकास का प्रसार राज्य के सभी ज़िलों के सभी शहर और गाँव तक पहुँचाने के लिए, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सोमवार को मुख्यमंत्री कार्यालय में प्रभारी मंत्रियों और सचिवों की समीक्षा बैठक ली। इस बैठक में मुख्यमंत्री राजे ने सभी प्रभारी मंत्रियों और सचिवों को सरकार के विकास कार्य की समय-समय पर उचित मॉनिटरिंग करने के लिए निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि राज्य सरकार ने बीते साढ़े तीन वर्षों में कड़ी मेहनत से काम करके विभिन्न योजनाओं के माध्यम से आमजन के दुख-दर्द को दूर करते हुए राजस्थान को विकास के रास्ते पर आगे बढ़ाया है। विकास की इस तीव्रता को बरकरार रखना है। इसके लिए जिलों के प्रभारी मंत्रियों और सचिवों पर जिम्मेदारी है कि वे सतत और नियमित निगरानी से यह सुनिश्चित करें।

आगामी कलेक्टर-एसपी कॉन्फ्रेंस के लिए तैयारी के दिए निर्देश:

इस मीटिंग में मुख्यमंत्री राजे ने जिला प्रभारी मंत्रियों तथा प्रभारी सचिवों को आगामी कलेक्टर-एसपी कॉन्फ्रेंस की तैयारी बैठक के लिए भी सम्बोधित किया। उन्होंने कॉन्फ्रेंस में चर्चा किए जाने वाले विषयों पर मंत्रियों एवं सचिवों से जिलावार फीडबैक लिया। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने जिला प्रभारी मंत्रियों को अपने जिलों और सरकार के विभिन्न विभागों के बीच लम्बित मुद्दों का चिन्हीकरण करने के लिए निर्देश दिया। ताकि कॉन्फ्रेंस में इन मुद्दों पर चर्चा कर इनका निस्तारण किया जा सके।

आमजन को शीघ्र लाभ पहुँचाने के लिए, जल्द भेजे जाये वित्तीय प्रस्ताव:

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मंत्रियों और सचिवों को निर्देश देते हुए कहा कि अपने क्षेत्रों में योजनाओं का क्रियान्वयन और विकास कार्यों की बजट घोषणाओं के लिए वित्तीय स्वीकृति के प्रस्ताव जल्द से जल्द वित्त विभाग को भेजे जाएं, ताकि इनका क्रियान्वयन समय पर सुनिश्चित हो सके। वित्तीय स्वीकृति में देरी से योजनाओं का क्रियान्वयन समय पर नहीं हो पाने से सरकार की लोकहितकारी परियोजनाओं और विकास का लाभ आमजन को समय पर नहीं मिल पाता है। ऐसी स्थिति से बचना चाहिए। साथ ही मुख्यमंत्री ने विकास और निर्माण कार्यों की गुणवत्ता प्रारम्भ से ही बनाए रखने के निर्देश दिए, जिससे उन कार्यों पर बाद में अनावश्यक व्यय से बचा जा सके।

हैप्पीनेस इंडेक्स बढ़ाने के लिए दें प्रोत्साहन:

प्रदेशवासियों का भरपूर साथ देकर सरकार राजस्थान में खुशहाली के स्तर को बढ़ाने के लिए काम कर रही है। मुख्यमंत्री राजे ने प्रदेश में खुशहाली का स्तर बढ़ाने के लिए जिलों में शुरू किए गए लाइब्रेरी, टॉय बैंक और क्लॉथ बैंक आदि को और अधिक उन्नत बनाने को कहा। प्रदेश का हैप्पीनेस इंडेक्स बढ़ाने के लिए जिलों की रैंकिंग करने और खुशहाली में अग्रणी जिलों को सम्मानित करने का सुझाव भी दिया। राजस्थानियों को सभी सुविधाएं और आधुनिक एवं उन्नत विकसित जीवन देने के लिए सरकार कटिबद्ध है।

ज़िलों में ब्लॉक स्तर तक एवं जनहित के शिविरों में जाएं जनप्रतिनिधि:

प्रभारी मंत्रियों के साथ बैठक में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सभी प्रभारी मंत्रियों और जनप्रतिनिधियों को अपने जिलों में ब्लॉक स्तर तक पहुँच कर विभिन्न सरकारी परियोजनाओं, अभियानों और शिविरों में लाभार्थियों की मदद करने और कार्य की मॉनिटरिंग करने के लिए दिशानिर्देश दिए। प्रभारी मंत्रियों को अधिकारियों से लगातार संपर्क में रहकर राज्य सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं के सुनियोजन को सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने प्रभारी मंत्रियों और सचिवों को पंचायत समिति मुख्यालयों पर भी समीक्षा बैठक आयोजित करने के निर्देश दिए।

मार्च- 2018 तक सभी कार्य पूरे करने के निर्देश:

मुख्यमंत्री ने राज्य के प्रभारी मंत्रियों और अधिकारियों को उनके क्षेत्र में चल रही सभी परियोजनाओं की प्रगति रिपोर्ट और अपनी टिप्पणियां व सुझाव सीएमआईएस पोर्टल पर साझा करने के निर्देश दिए। उन्होंने कार्यों की गुणवत्ता पर फोकस करने के लिए कहा। अधिक समय में पूरी होने वाली बड़ी परियोजनाओं के लिए चरणबद्ध रूप में समय सीमा निर्धारित कर निगरानी सुनिश्चित करने का सुझाव दिया। सभी सरकारी विभागों को विभिन्न प्रोजेक्ट्स एवं कार्यों की गति बढ़ाने के लिए निर्देश दिए, ताकि मार्च-2018 तक सभी काम पूरे हो सकें। और जनता को अधिकाधिक लाभ मिले।

इस बैठक में जिलों के प्रभारी मंत्री, मुख्य सचिव श्री ओपी मीना, जिलों के प्रभारी सचिव, विभिन्न विभागों के अतिरिक्त मुख्य सचिव, प्रमुख शासन सचिव तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.