मुख्यमंत्री राजे ने अजमेर में कहा, एक महिला सौ-सौ कार्यकर्ताओं के बराबर

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा है कि महिलाओं के जीवन में चाहे जितनी भी चुनौतियां क्यों न आए, वे हर चुनौती को मात देकर आगे बढ़ना बखूबी जानती हैं। उन्होंने कहा कि एक महिला होने के नाते मेरे सामने भी कई चुनौतियां आती हैं, तब आप जैसी साहसी और ऊर्जावान महिलाओं को देखकर ही मुझे आगे बढ़ने का हौसला मिलता है। मुख्यमंत्री राजे ने बुधवार को अजमेर में क्षत्राणियों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह बात कही।

news of rajasthan

सीएम वसुंधरा राजे अजमेर में महिलाओं के साथ बैठक के दौरान वार्तालाप करती हुई.

महिलाओं के बीच आकर मेरी हिम्मत और हौसला हो जाता है दोगुना

सीएम राजे ने कहा कि मैं प्रदेश की सभी 36 कौमों को हमेशा साथ लेकर चलती हूं, लेकिन महिलाओं के बीच आकर मेरी हिम्मत और हौसला दोगुना बढ़ जाता है। उन्होंने महिलाओं से कहा कि आपका साथ मुझे एक नई ऊर्जा देता है। राजे ने कहा कि राजस्थान का इतिहास वीरांगनाओं की गाथाओं से भरा पड़ा है। यहां की महिलाओं ने मातृभूमि के लिए अपना सिर तक काटकर अर्पित कर दिया। बैठक में मुख्यमंत्री ने एक-एक महिला को सौ-सौ कार्यकर्ताओं के बराबर बताते कहा कि नारी जब गरजती है तो इतिहास बदल देती है। उनके कहने का आशय था कि महिलाओं ने जब-जब भी अपनी आवाज बुलंद की है तो इतिहास के पन्नों में अपना नाम ही दर्ज कराया है।

महिलाओं की मीटिंग में पुरूषों का क्या काम: सीएम राजे

मुख्यमंत्री राजे ने बैठक के दौरान महिलाओं ने वहां मौजूद पुरूषों को बाहर जाने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि महिलाओं की मीटिंग में पुरूषों का क्या काम? इस दौरान जब सुरक्षाकर्मी अंदर खड़े रहे तो सीएम राजे ने कहा कि मैं भी इन सब महिलाओं की तरह एक महिला ही हूं। मुझे इनसे किस तरह का कोई खतरा नहीं है। यह कहकर उन्होंने अपने सुरक्षाकर्मियों को भी बाहर भेज दिया। राजे ने इसके बाद राजपूत समाज की महिलाओं से काफी देर तक खुलकर बातचीत की। उनसे उनके दुःख-दर्द जाने और कहा कि वे न केवल मुख्यमंत्री के रूप में बल्कि एक आम महिला के रूप में भी हमेशा उनके साथ खड़ी हैं। जब भी उन्हें कोई बात कहनी हो, उनके दरवाजे हमेशा उनके लिए खुले हैं।

Read More: जिसने काम किया, उसकी पीठ पर जनता का हाथ: मुख्यमंत्री राजे

एससी मोर्चा तथा अल्पसंख्यक मोर्चा के सम्मेलनों में भी की शिरकत

मुख्यमंत्री राजे से अपने विचार साझा कर राजपूत समाज की महिलाएं भावुक हो उठीं। उन्होंने कहा कि पहली बार प्रदेश की किसी मुख्यमंत्री ने इस तरह उनसे संवाद कर उनकी तकलीफों को जाना है। इसके बाद मुख्यमंत्री ने एससी मोर्चा तथा अल्पसंख्यक मोर्चा के सम्मेलनों में भी पहुंची। सीएम राजे ने अपने अजमेर दौरे पर बुधवार सुबह पुष्कर सरोवर के घाट पर तथा कोटेश्वर महादेव मंदिर में पूजा-अर्चना कर प्रदेश की समृद्धि एवं खुशहाली की कामना भी की।

 

Leave a Reply