मुख्यमंत्री राजे ने राजधानी जयपुर में धरोहर संरक्षण कार्यों का किया लोकार्पण

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बुधवार स्वतंत्रता दिवस की शाम को जयपुर शहर के चारदीवारी क्षेत्र में धरोहर संरक्षण कार्यों और विशेष रोशनी परियोजना का लोकार्पण किया। उन्होंने छोटी चौपड़ मेट्रो स्टेशन पर भूमिगत कला दीर्घा एवं संग्रहालय का उद्घाटन तथा ऐतिहासिक कुण्ड का जीर्णोद्धार के बाद लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री राजे ने जब किशनपोल बाजार, त्रिपोलिया बाजार, ईसरलाट गुंबद, चौड़ा रास्ता, जौहरी बाजार और हवामहल पर रिमोट बटन दबाकर नई विशेष रोशनी जलाई तो पुराने शहर के ये सभी बाजार जगमगा उठे। इसके बाद उन्होंने खुली जीप में बैठकर पुराने शहर के विभिन्न बाजारों में नई प्रकाश व्यवस्था का भी अवलोकन किया।

news of rajasthan

IMAGE: जयपुर शहर के चारदीवारी क्षेत्र में धरोहर संरक्षण कार्यों और विशेष रोशनी परियोजना का लोकार्पण के दौरान सीएम राजे.

जयपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के साथ-साथ धरोहर संरक्षण करना भी जरूरी

मुख्यमंत्री राजे ने इस अवसर पर उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि जयपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के साथ-साथ धरोहर संरक्षण करना भी जरूरी है। सरकार ने इस सुंदर सोच को धरातल पर क्रियान्वित किया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने दूरदर्शी सोच के साथ विकास किया है और सभी परियोजनाओं को प्रदेश की जनता को समर्पित किया है। मुख्यमंत्री राजे ने इससे पूर्व भूमिगत कला दीर्घा तथा छोटी चौपड़ कुण्ड का अवलोकन भी किया। उन्होंने अधिकारियों से नई प्रकाश व्यवस्था को बाधित करने वाले बिजली के तारों तथा छतों पर लगे एयर कंडीशनर आदि को सुव्यवस्थित करने के निर्देश दिए। राजे ने जयपुर मेट्रो और स्मार्ट सिटी परियोजनाओं के अधिकारियों से चौपड़ सहित पूरे चारदीवारी क्षेत्र में अधूरे कार्यों को जल्द से जल्द पूरा करने के भी निर्देश दिए।

Read More: 36 साल बाद पाकिस्तान जेल से लौटे गजानंद को 1 लाख रुपए देंगी मुख्यमंत्री

इस दौरान ये भी रहे उपस्थित

इस अवसर पर जयपुर शहर सांसद रामचरण बोहरा, विधायक अशोक परनामी एवं मोहनलाल गुप्ता, मेयर अशोक लाहोटी, अतिरिक्त मुख्य सचिव शहरी विकास पी.के. गोयल, निदेशक स्वायत्त शासन कुलदीप रांका सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी, जनप्रतिनिधि एवं आमजन उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.