राजस्थान में आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर नजर रखेगा ‘सी-विजिल’ एप

प्रदेश में दिसंबर माह के प्रथम सप्ताह में होने वाले विधानसभा चुनाव को निष्पक्ष कराने के लिए निर्वाचन आयोग तैयारियों में जुटा हुआ है। इसी बीच आयोग ने आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर नजर रखने के लिए एक एप तैयार कराया है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने कहा कि राज्य में विधानसभा चुनाव-2018 में आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर कड़ी निगरानी रखने के लिए ‘सी-विजिल’ एप के जरिए अब किसी भी शिकायत का समाधान सौ मिनिट की अवधि में हो सकेगा। इस एप ने अब राज्य में भी कार्य करना शुरू कर दिया है। आमजन इसे गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर अपनी शिकायतें मय सबूतों के साथ भेज सकेंगे।

news of rajasthan

Image: ‘सी-विजिल’ एप को लॉन्च करते हुए राज्य निर्वाचन आयोग के अधिकारी.

एप के जरिए शिकायतों पर सौ मिनिट में कार्यवाही संभव

मुख्य निर्वाचन अधिकारी कुमार सोमवार को शासन सचिवालय के कॉन्फ्रेंस हाल में सी-विजिल एप के उपयोग एवं इसके संचालन के बारे में राज्य स्तरीय प्रशिक्षण में हिस्सा ले रहे प्रतिभागियों को संबोधित कर रहे थे। इस प्रशिक्षण में राज्य के सभी जिलों के दो-दो नोडल अधिकारियों ने हिस्सा लिया। प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके अधिकारी अपने-अपने जिलों के निर्वाचन क्षेत्रों में जाकर अधिकारियों को प्रशिक्षित करेंगे। उन्होंने कहा कि अभी तक आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतों पर पर्याप्त सबूतों के अभाव में कड़ी कार्यवाही नहीं हो पाती थी, अब सी-विजिल एप के जरिए फास्ट ट्रैक शिकायत प्राप्ति और समाधान प्रणाली से प्राप्त शिकायतों पर सौ मिनिट में कार्यवाही संभव होगी। कुमार ने कहा कि कोई भी व्यक्ति एंड्रॉयड आधारित सी-विजिल एप को मोबाईल फोन में डाउनलोड कर सकता है। यह एप निर्वाचन घोषणा की तिथि से राज्य में प्रभावी हो गया है।

कुमार कहा कि एप के जरिये आचार संहिता के उल्लंघन पर उसकी शिकायत मय फोटो या वीडियो के साथ भेजी जा सकती है। इससे अब शिकायतकर्ता को पीठासीन अधिकारी के कार्यालय तक दौड़ लगाने की मशक्कत से निजात मिल सकेगी। इस एप की सबसे खास बात यह है कि इसमें शिकायतकर्ता की पहचान गोपनीय रखी जाएगी। इससे पहले की व्यवस्था में शिकायत के सत्यापन में फोटो या वीडियो के रूप में दस्तावेजी साक्ष्य की कमी भी एक बाधा थी। भारत निर्वाचन आयोग ने सी-विजिल के जरिए इस प्रकार की शिकायतों पर प्रभावी एवं त्वरित कार्यवाही सुनिश्चित करने के लिए इसका प्रयोग किया है।

Read More: राजस्थान में इस बार सत्ता परिवर्तन का ट्रेंड बदलेगा: केन्द्रीय मंत्री जावड़ेकर

‘राज इलेक्शन एप’ भी लॉन्च, अब वोटर लिस्ट में नाम खोजना हुआ आसान

मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने इस अवसर पर निर्वाचन विभाग द्वारा तैयार ‘राज इलेक्शन’ एप भी लॉन्च किया गया। इस एंड्राइड एप के जरिए प्रदेश के मतदाता अपने नाम या वोट आईडी नंबर से निर्वाचन संबंधी जानकारी ले सकते हैं। एप के माध्यम से चंद सैकण्डों में भाग संख्या, क्रम संख्या तथा मतदान केन्द्र की जानकारी मिल सकेगी। इसके अलावा परिवारजनों के नाम एक साथ देखने की सुविधा इस एप के माध्यम से मिल सकेगी। यह दोनों एप डाउनलोड करने के लिए आमजन तथा मतदाता को गूगल प्ले स्टोर पर जाना होगा।

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.