राजस्थान में महिला अपराध में 12 प्रतिशत की आई कमी: गृह मंत्री

राजस्थान सरकार के महिला अपराध रोकथाम को लेकर किए जा रहे विशेष प्रयासों से हाल ही में फिमेल ​क्राइम में भारी कमी देखी गई है। गृह मंत्री गुलाब चन्द कटारिया ने बुधवार को विधानसभा में बताया कि पूरे राजस्थान में महिलाओं से संबंधित अपराधों में 12 प्रतिशत की कमी आई है। कटारिया ने कहा कि प्रदेश में लगातार अपराध प्रतिशत में कमी आ रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में थाने पर्याप्त संख्या में है, कोई व्यक्ति चाहे तो अपने मुकदमें को महिला थाने में स्थानान्तरित करवा सकता है।

news of rajasthan

File-Image: राजस्थान में महिला अपराध में 12 प्रतिशत की आई कमी: गृह मंत्री. 

राजस्थान में हैं 40 पुलिस जिले और प्रत्येक में खुला हुआ है महिला थाना

गृह मंत्री गुलाब चन्द कटारिया ने प्रश्नकाल के दौरान विधायकों द्वारा पूछे गए पूरक प्रश्नों के जवाब में बताया कि राजस्थान में 40 पुलिस जिले हैं और प्रत्येक में महिला थाना खुला हुआ है। उन्होंने कहा कि केवल कोटा में 330 मुकदमें दर्ज है। छह जिले ऐसे हैं जिनमें 200-300 तक मुकदमें, 17 जिले ऐसे हैं जिनमें 100-200 तक मुकदमें, 16 जिले ऐसे हैं जिनमें 0-100 तक मुकदमें दर्ज हैं। इन मुकदमों की संख्या को देखते हुए महिला थाने खोले जाने की आवश्यकता महसूस नहीं होती। गृह मंत्री ने बताया कि 861 थानों में से 786 थानों में महिला डेस्क बनी हुई है, ताकि महिला अपनी बात को कह सके। उन्होंने बताया कि हनुमानगढ़ में निरन्तर महिलाओं से सम्बन्धित मुकदमों में गिरावट आ रही है। जिससे महिला थाना खोले जाने का कोई औचित्य नहीं है।

राज्य स्तर, रेंज स्तर तथा जिला स्तर पर चलाये जा रहे हैं महिला सुरक्षा अभियान

कटारिया ने थानों में सीएलजी कमेटियों में महिला कमेटी बनाने के प्रस्ताव पर कहा कि अबकी बार यह प्रयास करेंगे कि सीएलजी में महिलाओं का प्रतिनिधित्व बढ़े। उन्होंने बताया कि जोधपुर कमिश्नरेट में दो महिला पुलिस थाने हैं। उनमें दर्ज मुकदमों की संख्या के आधार पर महिला थाना खोले जाने की आवश्यकता नहीं है। इससे पहले विधायक द्रोपती द्वारा पूछे गए मूल प्रश्न के जवाब में गृह मंत्री ने बताया कि प्रदेश में प्रत्येक जिला केन्द्र (जिला मुख्यालय) पर महिला पुलिस थाने खुले हुए हैं। गृह मंत्री ने बताया कि वर्तमान में जिलों व आयुक्तालय में कमाण्ड कन्ट्रोल सेंटर की निगरानी में महिला गश्ती दलों का गठन किया जाकर निगरानी की जा रही है।

गृह मंत्री कटारिया ने कहा ​कि सादा वस्त्रों में पुलिसकर्मी लगाये जाकर कार्यवाही की जा रही है। बालिका अपराध संबंधी सूचना प्राप्त होने पर तुरन्त कार्यवाही की जाती है। उन्होंने बताया कि राज्य स्तर, रेंज स्तर तथा जिला स्तर पर बालिकाओं की सुरक्षा हेतु समय-समय पर विशेष अभियान चलाये जाते हैं। महिलाओं व बालिकाओं को आत्मरक्षा प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है, पृथक से एंटी रोमियो अभियान का प्रस्ताव अभी विचाराधीन नहीं है।

Read More: सुरक्षा तंत्र को मजबूत बनाने के लिए जयपुर में सेन्ट्रल मॉनिटरिंग सिस्टम शुरू

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.